प्रतापगढ़ : दिवंगत रोजगार सेवक के परिजनों को दी आर्थिक मदद

फायरब्रिगेड के वाहन की टक्कर से रोजगार सेवक की गई थी जान

प्रतापगढ़ : दिवंगत रोजगार सेवक के परिजनों को दी आर्थिक मदद

प्रतापगढ़ अमृत विचार : फायरब्रिगेड के वाहन से टक्कर के बाद सड़क हादसे में जान गंवाने वाले रोजगार सेवक के परिजनों को पुलिस एवं ग्राम प्रधानों ने आर्थिक सहयोग दिया। डीडीओ व एसओ ने रोजगार सेवक की पत्नी को आर्थिक सहयोग दिया।
कोतवाली देहात के भदोही गांव निवासी 42 वर्षीय देवेंद्र प्रताप सिंह पुत्र स्व. अवधेश सिंह रोजगार सेवक थे। 15 वर्षीय बेटी ज्योत्स्ना सिंह हनी व आठ वर्षीय प्रशंसिका सिंह गौरी को आइंस्टीन पब्लिक स्कूल से 14 मई की दोपहर स्कूल में छुट्टी के बाद स्कूटी से लिवाकर घर जा रहे थे।

बड़नपुर गांव में कटरा मेदनीगंज मार्ग पर पंचायत भवन के पास सामने से आई कुंडा फायर स्टेशन के वाहन (बोलेरो) ने जोरदार टक्कर मार दी। तेज रफ्तार में बोलेरो ने गलत दिशा में जाकर टक्कर मार दी। जिसमें देवेंद्र की मौत हो गई थी, जबकि दोनों बेटियों का इलाज चल रहा है। हादसे के बाद पतिवार पर संकट आ गया। एसपी सतपाल अंतिल एवं पंचायत प्रतिनिधियों ने परिवार को सहयोग का भरोसा दिया था। मंगलवार को एसपी के निर्देश पर एसओ कोतवाली देहात विनीत उपाध्याय,सिटी चौकी प्रभारी सूर्य प्रताप सिंह,कटरा मेदनीगंज प्रभारी मृत्युंजय पांडेय भदोही गांव पहुंचे।

मृतक देवेंद्र की पत्नी रोशनी सिंह को ग्राम प्रधान नीरज सिंह की मौजूदगी में पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि दी। इस दौरान कर्मचारी संघ के अध्यक्ष करुणेश सिंह मुन्ना,अनिल सिंह बब्बू समेत लोग मौजूद रहे। डीडीओ राकेश प्रसाद,बीडीओ राजेन्द्र नाथ पांडेय व ग्राम प्रधान संघ मानधाता के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह बबऊ के साथ ब्लाक के ग्राम प्रधान भी भदोही गांव पहुंचे। देवेंद्र की पत्नी को आर्थिक मदद दी। इस दौरान ग्राम प्रधान नीरज सिंह,रोजगार सेवक संघ अध्यक्ष लवलेश यादव,रमेश सिंह,अरुण सिंह,उत्तम सिंह,दिवाकर सिंह, संतोष पटेल,सुरेंद्र यादव, बबलू मिश्र,दिवाकर सिंह समेत ग्राम प्रधान मौजूद रहे।

आइंस्टीन पब्लिक स्कूल बेटियों की शिक्षा में करेगा सहयोग

मानधाता ब्लाक के भदोही गांव निवासी रोजगार सेवक देवेंद्र  की मौत के बाद परिवार पर आर्थिक संकट आ गया है। घायल बेटियों का इलाज चल रहा है। बेटियां  आइंस्टीन पब्लिक स्कूल में पढ़ाई करती हैं। विद्यालय के निदेशक विभव भूषण शुक्ल ने कहा कि पढ़ाई के लिए विद्यालय खड़ा है। साथ इलाज में भी जो हरसम्भव मदद होगी करेंगे।

ये भी पढे़ं- पाकिस्तान के साथ लगी सीमा अभेद्य नहीं होने के कारण आतंकवाद अभी तक बरकरार: फारूक अब्दुल्ला

 

ताजा समाचार