बाराबंकी: ठंडे बस्ते में अमृत सरोवर घोटाले की जांच, दूसरे तालाब का फोटो दिखाकर किया गया 1.61 लाख का घोटाला

बाराबंकी: ठंडे बस्ते में अमृत सरोवर घोटाले की जांच, दूसरे तालाब का फोटो दिखाकर किया गया 1.61 लाख का घोटाला

बाराबंकी, अमृत विचार। अमृत सरोवर की खोदाई के दौरान बरती गई अनियमताओं और जांच को गठित की गई टीम की रिपोर्ट ठंडे बस्ते में है। इसे लेकर जिम्मेदार आलाधिकारी भी चुप्पी साधे हैं। ज्ञात हो की दरियाबाद विकास खंड के तारापुर ग्राम पंचायत अंतर्गत महादेव अमृत सरोवर की खोदाई के दौरान बगैर काम कराए और दूसरे तालाब का फोटो लगाकर निकाली गई एक लाख इकसठ हजार की धनराशि का घोटाला जब चर्चा में आया तो आनन फानन में जांच को लेकर तीन सदस्यीय टीम गठित कर दी गई।

टीम गठित होने के बाद प्रधान समर्थक ने उस तलाब पर मजदूरों को लगाकर काम शुरु कर दिया, लेकिन जब इसका वीडियो सोशल मीडिया पर प्रसारित हुआ तो प्रधान के समर्थक ने गांव के एक व्यक्ति की संदेह के आधार पर पिटाई कर दी। दोनों पक्षों पर दरियाबाद कोतवाली में अभियोग पंजीकृत हुआ। इसके बाद में पूरा मामला ठंडे बस्ते में चला गया है। लगभग एक सप्ताह बीत गया लेकिन कुछ राजनितिक स्वार्थों के कारण मामले की जांच दबाई जा रही है।

वहीं अगर ग्रामीण सूत्रों की मानें तो यह तारापुर के लिए कोई नया मामला नहीं है। अगर सरकारी कागज कुदेरे जाएंगे तो अचंभित करने वाले परिणाम सामने आएंगे। खंड विकास अधिकारी संदीप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जांच टीम के सदस्यों की चुनाव के दौरान ड्यूटी लगने से जांच प्रभावित है। जल्द ही जांच की जाएगी।

अमृत सरोवर की बिना खोदाई कराए धनराशि निकालने का मामला उनके संज्ञान में आया है। पूरे मामले की जांच के निर्देश दिये जा रहे हैं। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी..,अ. सुदन, मुख्य विकास अधिकारी।

यह भी पढ़ें:-लखनऊ: सुसाइड नोट लिखकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्र ने लगाया फंदा, कहा- अब जीने की इच्छा नहीं, जानें वजह

ताजा समाचार