सुलतानपुर: संदिग्ध परिस्थितियों में मिला युवक का शव, परिजनों में कोहराम

सुलतानपुर: संदिग्ध परिस्थितियों में मिला युवक का शव, परिजनों में कोहराम

सुलतानपुर, अमृत विचा। शुक्रवार की सुबह पिता को बेटे का शव संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा मिला। सूचना पर पहुंचे परिजनों मे कोहराम मच गया। रोने की आवाज़ सुन पहुंचे स्थानीय लोगों ने युवक की मौत की तरह तरह से कयास लगाने लगे। कोई हत्या तो कोई आत्महत्या बता रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने युवक के शव को कब्जे में ले पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

नगर कोतवाली के पयागीपुर निवासी जगदीश मिश्रा का छोटा पुत्र आशीष मिश्रा शुक्रवार की सुबह अपने बिस्तर पर नही था।  पिता जगदीश उसे ढूढने निकले तो मिश्रा रेस्टोरेंट के बेसमेंट में संदिग्ध परिस्थितियों में उसका शव दिखा तो सदमे में आ गए। सूचना पर पहुंचे परिवारिकजन भी आ गए तो रोने चिल्लाने लगे। आवाज सुन पहुंचे पड़ोसियों ने आशीष का शव देख उसकी मौत पर कयास लगाने लगे। कोई हत्या तो कोई आत्महत्या बताने लगे।

सूचना पर पहुंचे नगर कोतवाल श्री राम पांडेय पयागीपुर चौकी इंचार्ज कन्हैया पांडेय ने युवक के शव को कब्जे में लेते हुए पंचनामा भर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। बताते चलें कि युवक की मौत से पत्नी प्रीतम मिश्रा व मां बाप का बुरा हाल है। वही मृतक के बेटे प्रबल 9वर्ष, प्रखर 7बर्ष के ऊपर से पिता का साया उठ गया। नगर कोतवाल श्रीराम पांडेय ने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। पोस्टमॉर्टम के बाद ही मौत का सही कारण स्पष्ट हो पाएगा।

यह भी पढ़ें:-Video: न रिटायर हुआ हूँ, न बूढा हुआ हूँ, अब मैं छुट्टा सांड़ हूँ, बृजभूषण सिंह ने सांड़ से की खुद की तुलना

 

ताजा समाचार

प्रतापगढ़: डिजिटल साइनेज बोर्ड बतायेगा आपदा से राहत और बचाव के तरीके, डीएम ने जनसुनवाई कक्ष में किया शुभारंभ
बहराइच: महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, सीओ ने फोरेंसिक टीम के साथ लिया जायजा
अंबेडकरनगर: प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत, चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगा परिजनों और ग्रामीणों ने सड़क जाम
कासगंज: अलीगढ़ से चोरी हुए 42 Vivo कंपनी के मोबाइल सहित तीन गिरफ्तार  
एलन मस्क ने EVM की विश्वसनीयता पर फिर से छेड़ दी बहस, राहुल ने बताया ब्लैक बॉक्स...पूर्व मंत्री ने कही ये बात
अंबेडकरनगर: केंद्र और प्रदेश सरकार निषाद समाज के लिए चला रही हैं कई योजनाएं, बोले मंत्री संजय निषाद