Lucknow building Collapse: बिना अनुमति चल रहा था बेसमेंट में खनन, लिवाना से प्रशासन और एलडीए ने नहीं लिया सबक

Lucknow building Collapse: बिना अनुमति चल रहा था बेसमेंट में खनन, लिवाना से प्रशासन और एलडीए ने नहीं लिया सबक

लखनऊ, अमृत विचार। गोखले मार्ग में होटल लिवाना में हुए हादसे और उसके बाद याजदान अपार्टमेंट की घटना से जिला प्रशासन और एलडीए ने सबक नहीं लिया है। बिना मानक तैयार हो रहीं अवैध बिल्डिंगों से लोगों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। हजरतगंज के वजीर हसन रोड स्थित पांच मंजिला अलाया अपार्टमेंट के अचानक गिरने के पीछे बिल्डर की लापरवाही बतायी जा रही है। 

मौके पर मौजूद लोगों के अनुसार जब बिल्डिंग गिरी तब बेसमेंट में खुदाई का काम चल रहा था। इसके लिए खनन अनुभाग से अनुमति भी नहीं ली गयी थी।राजधानी में सैकड़ों बिल्डिंग खतरे के मुहाने पर खड़ी हैं। व्यवसायीकरण की दौड़ में शहर की पुरानी आवासीय बिल्डिंगों को रिनोवेट करने के साथ चोरी छिपे बेसमेंट खोदकर दुकानें बनायी जा रही हैं। 

चारबाग, नाका, अमीनाबाद, चौक, ठाकुरगंज आदि इलाकों में 25 से 30 साल पुरानी इमारतों में आवासीय के साथ व्यवसायिक गतिविधियां संचालित हो रही हैं। रातोंरात पुरानी बिल्डिंगों में बेसमेंट खोदकर दुकानें तैयार की जा रही हैं। इसके लिए न तो जिला प्रशासन से खनन की अनुमति ली जाती है और न ही एलडीए से नक्शा पास कराया जाता है। इस खेल में बिल्डर के साथ एलडीए के इंजीनियर भी शामिल रहते हैं। उन पर जिला प्रशासन और एलडीए की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होती है।

यह भी पढ़ें:-Lucknow building Collapse: आलिया अपार्टमेंट हादसे में घायलों लोगों ने बताई आपबीती, कहा- आंख खुली तो...

Post Comment

Comment List