मुरादाबाद : 'बिना लाइसेंस उर्वरक बेचने पर विक्रेताओं पर होगी कार्रवाई'

गोमूत्र के उपयोग से मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी दूर करने की सलाह, पंचायत भवन सभागार में हुई जिला स्तरीय रबी उत्पादकता गोष्ठी

मुरादाबाद : 'बिना लाइसेंस उर्वरक बेचने पर विक्रेताओं पर होगी कार्रवाई'

मुरादाबाद, अमृत विचार। पंचायत भवन सभागार में गुरुवार को रबी उत्पादकता गोष्ठी एवं किसान मेला और मिलेट्स पुनरोद्धार कार्यक्रम के अंतर्गत जिला स्तरीय मिलेट्स कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने छुट्टा पशुओं पर नियंत्रण पाया जा रहा है। प्रत्येक ब्लाक में दो-दो गोवंश आश्रय स्थल बनवाए जा रहे हैं। प्रत्येक आश्रय स्थल में 500 पशुओं के रखने की व्यवस्था की जाएगी। बिना लाइसेंस उर्वरक बेचने पर विक्रेताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने किसानों से कहा कि मोटे अनाज की खेती भी करें। इससे स्वास्थ्य को लाभ होगा और आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी।

जिला स्तरीय रबी जागरूकता गोष्ठी का आरंभ जिलाधिकारी ने दीप प्रज्ज्वलित करके किया। गोष्ठी में उन्होंने कहा कि खाद की किल्लत नहीं है, किसान परेशान न हो। सिंथेटिक दूध पर रोक लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सीडीओ अपनी देखरेख में नलकूप, नहरों और गूल की सफाई कराए। गोवंश के लिए चारे की व्यवस्था ग्राम पंचायत स्तर से की जाएगी, जिन किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की किस्त मिलने में आ दिक्कत आ रही है, उसे दूर किया जाएगा।

 उपकृषि निदेशक ओमेंद्रपाल सिंह ने कृषि संयंत्र और मिलेट्स के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लॉटरी के माध्यम से किसानों का चयन किया जाएगा। कृषि वैज्ञानिक डॉ. मनोज कुमार ने मिलेट्स से निर्मित उत्पादों एवं उपभोग पर जानकारी दी। कहा किसानों को गो आधारित और प्राकृतिक खेती करनी चाहिए। मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी को दूर करने के लिए बीजामृत, धनजीवामृत बनाने की विधि की जानकारी दी। गोमूत्र के उपयोग से मृदा में पोषक तत्वों की कमी एवं रोगों को दूर करने का सुझाव दिया। दुधारू पशुओं के संबंध में बताया कि दूध के अधिक उत्पादन के लिए पशुओं को हरा चारा खिलाया जाए। उन्होंने पशुओं में बांझपन दूर करने के उपाय भी बताए।

 डॉ. दीपक कुमार ने रबी की मुख्य फसल गेहूं में होने वाले खरपतवार से नुकसान और इस समस्या को दूर करने के लिए दवा के उपयोग बताया। डॉ. ललित कुमार ने मिलेट्स ज्वार, बाजरा, कुटकी, सांवा, रागी और कोदो के बारे में जानकारी दी। जिला उद्यान अधिकारी ने पीएम सूक्ष्म खाद्य योजना, पावर टिलर, मधुमक्की पालन पर अनुदान के बारे में बताया। 

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने पशुपालन के बारे में जानकारी दी। जिलाधिकारी ने मिलेट्स के लिए सम्मानित भी किया। इस मौके पर सीडीओ सुमित यादव, उपकृषि निदेशक ओपी सिंह, परियोजना निदेशक एसपी मिश्र, उप कृषि निदेशक एवं जिला कृषि अधिकारी ऋतुषा तिवारी, जिला भूमि संरक्षण अधिकारी डा. योगेंद्र कुमार, सहायक निदेशक मृदा परीक्षण राजकुमार, जिला उद्यान अधिकारी गया प्रसाद, डीजीएम नाबार्ड रजत सहगल, सीवीओ डॉ. अनिल कंसल, जितेंद्र डबास आदि मौजूद रहे।

मेले में लगे स्टाल
मुरादाबाद। रबी उत्पादकता गोष्ठी में पशुपालन, गन्ना विभाग, सहकारिता विभाग, कृषि विभाग समेत दूसरे विभागों ने अपने-अपने स्टॉल लगाए। जिसमें किसानों को तरह-तरह की जानकारी दी गई। मिलेटस के स्टॉल पर ओमेंद्र सिंह बढ़गौती ने किसानों को मोटे अनाज की जानकारी दी। किस तरह से खेती की जाए इसकी भी जानकारी दी।

ये भी पढ़ें:- मुरादाबाद: डीएपी की किल्लत को लेकर डीएम कार्यालय के बाहर कांग्रेसियों का प्रदर्शन

Online Jobs Apply