यूपी बोर्ड: दो महीने बाद परीक्षा, अधूरे पाठ्यक्रम से छात्रों की बढ़ी चिंता

यूपी बोर्ड: दो महीने बाद परीक्षा, अधूरे पाठ्यक्रम से छात्रों की बढ़ी चिंता

बरेली, अमृत विचार। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा की समय सारिणी जारी होने के बाद विद्यार्थियों की चिंता बढ़ गई है। अब तक अधिकतर स्कूलों में मुख्य विषयों के पाठ्यक्रम पूरे नहीं हो पाए हैं।

परीक्षार्थियों का कहना है कि इस महीने से प्रयोगात्मक परीक्षाएं भी शुरू हो जाएंगी और कुछ दिन बाद सर्दी की छुट्टियां भी हो जाएंगी। जनवरी तक प्रयोगात्मक परीक्षा होने के बाद अगले महीने लिखित परीक्षा शुरू हो जाएगी। ऐसे में पाठ्यक्रम पूरा होना भी मुश्किल होगा।

विद्यार्थियों का कहना है कि शिक्षकों की कमी के चलते भी कई विषयों के पाठ्यक्रम अभी अधूरे हैं। वहीं विभागीय अधिकारी अब तक 80 से 90 फीसदी पाठ्यक्रम पूरा होने की बात कह रहे हैं। जिले में 462 माध्यमिक स्कूलों में हाईस्कूल के 52662 और इंटरमीडिएट के 44516 विद्यार्थी पंजीकृत हैं। विभाग की ओर से जारी कैलेंडर के अनुसार जनवरी के पहले सप्ताह तक कोर्स पूरा करने की बात कही गई है।

अतिरिक्त कक्षाओं से पूरा कराना होगा पाठ्यक्रम
डीआईओएस देवकी ने बताया कि बोर्ड परीक्षा से कम से कम एक महीने पहले सभी स्कूलों को पाठ्यक्रम शत प्रतिशत पूरा कराना होगा। इसके लिए जिन स्कूलों में अभी पाठ्यक्रम पूरे नहीं हुए हैं उन सभी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को निर्देश जारी कर अतिरिक्त कक्षाओं का संचालन के लिए भी कहा गया है।

बताया कि जनवरी व फरवरी में परीक्षार्थियों के मन से परीक्षा का भय दूर करने के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित कर परीक्षा की तैयारी से जुड़ी जानकारी देते हुए उन्हें पाठ्यक्रम का रिवीजन कराने को भी कहा गया है।

समय कम होने से तैयारी में होगी दिक्कत
कोर्स तो काफी हद तक पूरा हो गया है। परीक्षा के बीच अंतर कम होने की वजह से तैयारियों में परेशानी होगी। इसलिए परीक्षा की चिंता सता रही है।- शुभम, छात्र

पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए शिक्षक लगे हुए हैं लेकिन समय सारिणी के मुताबिक अब बहुत कम समय होने के चलते सही ढंग से पढ़ने और समझने का मौका नहीं मिल रहा है।- मो. अफजल, छात्र

तैयारी के दृष्टिकोण से जरूरी पाठ्यक्रम लगभग पूरा करा दिया गया है, लेकिन शिक्षकों की कमी के चलते करीब 20 फीसदी पाठ्यक्रम नहीं हो पाया है। शेष पाठ्यक्रमों को खुद ही पूरा करने की कोशिश में लगे हुए हैं।- सूरज यादव, छात्र

22 फरवरी से बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं। इतने कम समय में प्रयोगात्मक परीक्षा और प्री-बोर्ड परीक्षा की तैयारी करें या फिर बोर्ड परीक्षा की। इस बार तैयारी के लिए बहुत कम समय मिला है।- पल्लवी, छात्रा

ये भी पढे़ं- बरेली: कांग्रेस के खिलाफ भाजपाइयों का प्रदर्शन, फूंका पुतला

 

FOOTER:
Online Jobs Apply