पीलीभीत: धान हो गया खत्म, उछाल मार गई खरीद, जिम्मेदारों ने लक्ष्य की राह कर ली आसान!

पीलीभीत: धान हो गया खत्म, उछाल मार गई खरीद, जिम्मेदारों ने लक्ष्य की राह कर ली आसान!

पीलीभीत,अमृत विचार। सरकारी धान खरीद के लक्ष्य को पाने की चुनौती अब धीरे-धीरे दूर हो रही है। मंडी में भले दैनिक लक्ष्य के सापेक्ष धान पहुंच रहा या नहीं? मगर सिस्टम ने ऐसी नीति अपनाई कि लगातार खरीद के आंकड़ों में तेजी से उछाल हो रहा है। नतीजतन जो खरीद 20 दिन के भीतर खरीद लक्ष्य के सापेक्ष 8.73 प्रतिशत से बढ़कर 35.90 प्रतिशत के पार पहुंच गई है।  इसे लेकर अफसर राहत महसूस कर रहे है। वहीं, खरीद में खेल का शोर भी बढ़ने लगा है। फिलहाल लक्ष्य पाने के लिए जिम्मेदारों द्वारा बनाई गई रणनीति जरुर कारगर साबित होती दिखाई दे रही है।

बता दें कि जनपद में सरकारी धान खरीद हर साल सुर्खियां बनती रही है। किसान को भले न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ ना मिल पाए लेकिन लक्ष्य को पाने के लिए खरीद के अंतिम दिनों में ही उछाल होता रहा है। इस बार भी शुरुआत से पिछड़ती चली आ रही सरकारी धान खरीद में कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है। बीते सालों की तरह एक अक्टूबर से धान खरीद शुरू हुई। छह एजेंसियों के 161 क्रय केंद्र बनाए गए। जिन पर सरकारी धान खरीदा जा रहा है।

शुरुआती डेढ़ माह की बात करें तो खरीद का हाल बेहाल था। अठारह नवंबर तक लक्ष्य के सापेक्ष 8.73 फीसदी ही धान सरकारी केंद्रों पर खरीदा जा सका था। इसके बाद जिम्मेदार भी चिंता में पड़ गए थे कि आखिर लक्ष्य की पूर्ति होगी तो कैसे? फिर बताते हैं कि पुराने ढर्रे पर खरीद को नया रूप देने की कोशिश कर दी गई। जिसका परिणाम भी अब आंकड़ों में दिखाई देने  लगा है। 07 दिसंबर तक यानि बीस दिन में ही खरीद 35.90 प्रतिशत के पार हो चुकी है। ब तक 107708.21 मीट्रिक टन धान सरकारी केंद्र में खरीदा जा चुका है। जबकि मंडियों में क्रय केंद्रों पर धान की आवक कम होती दिखाई दे रही है। खैर, कुछ भी हो इस खरीद के आंकड़ों में उछाल ने जिम्मेदारों की टेंशन जरुर कम कर दी है।

बिना धान किसानों के अंगूठे लगाने के भी लग चुके आरोप
क्रय केंद्रों पर धान की खरीद में उछाल के आंकड़ों के बीच कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो चुके हैं। जिसके बाद खरीद में खेल का शोर भी बढ़ा रहा। आरोप लगाए गए कि बिना धान के ही पहुंच रहे किसानों के सिर्फ अंगूठे लगवाए जा रहे हैं।  उस वक्त मामले को जांच के नाम पर ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। बताते हैं कि कुछ केंद्रों पर खरीद अचानक तेजी से बढ़ गई। मगर इसे लेकर जिम्मेदारों चुप्पी साण गए हैं।

ये भी पढ़ें- पीलीभीत : सड़कों पर उतरे भाजपाई, भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस घेरा..संख्या कम रही तो गुटबाजी का मचा शोर!

ताजा समाचार

पीलीभीत: आज से 76 केंद्रों पर होंगी यूपी बोर्ड की परीक्षा, इंतजाम सख्त... तैयारी पूरी
बोर्ड परीक्षा: बच्चों में बढ़ रहा परफॉर्मेंस एंग्जाइटी का खतरा, परिजन परेशान...करें ये काम
बरेली: आत्महत्या से पहले बनाई वीडियो लेकिन जांच में नहीं जिक्र, पुलिस पर मिलीभगत का आरोप...जानिए मामला
बरेली: भाजपा में शामिल हुए सपा के पूर्व महानगर अध्यक्ष जफर बेग, डिप्टी सीएम की मौजूदगी में ली सदस्यता
आंवला के किसान ट्रैक्टरों के साथ पहुंचे कलेक्ट्रेट, प्रदर्शन कर की नारेबाजी
बरेली: अखिलेश यादव ने पार्टी नेताओं से की मुलाकात, बोले- एकजुट होकर सभी प्रत्याशी को जिताएं