संभल: जहां प्रधानमंत्री मोदी ने रखी कल्कि धाम निर्माण की शिला वहां जुटने लगे श्रद्धालु

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को किया था ऐंचोड़ा कम्बोह में कल्कि धाम का शिलान्यास, मंगलवार को सुबह से ही शुरु हो गया श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला, आसपास जनपदों से परिवार के साथ पहुंच रहे श्रद्धालु

संभल: जहां प्रधानमंत्री मोदी ने रखी कल्कि धाम निर्माण की शिला वहां जुटने लगे श्रद्धालु

भीष्म सिंह देवल, अमृत विचार। संभल जनपद के ऐंचोड़ा कम्बोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कल्कि धाम का शिलान्यास किये जाने के बाद कल्कि धाम और भगवान कल्कि के नाम की गूंज दूर तक सुनाई दे रही है। अभी कल्कि धाम का निर्माण भी शुरु नहीं हुआ लेकिन श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरु हो गया है। मंगलवार को पहुंचे श्रद्धालुओं ने गर्भगृह की परिक्रमा कर स्थापित व पूजित शिलाओं को नमन किया।

image 12

श्रीमद्भागवत गीता व भविष्य पुराण सहित कई धर्मग्रंथों में वर्णित है कि कलयुग में भगवान विष्णु कल्कि के रूप में अवतरित होंगे और यह अवतार गंगा और रामगंगा के मध्य बसे संभल में होगा। इसी अवधारणा के तहत हजारों साल पहले संभल में कल्कि भगवान का मंदिर बनाया गया। महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था। संभल की धरा पर कल्कि भगवान भी भक्ति के प्रवाह को तेज करते हुए 18 साल पहले आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कल्कि पीठ की स्थापना कर अपने पैतृक गांव ऐंचोड़ा कम्बोह में कल्कि धाम निर्माण का संकल्प लिया था। 

image 123

2016 में कल्कि धाम का शिलान्यास किया जाना था लेकिन तत्कालीन सपा सरकार द्वारा धाम निर्माण पर पाबंदी लगा देने की वजह से यह संभव नहीं हो पाया। भाजपा शासनकाल में 19 फरवरी को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐंचोड़ा कम्बोह में कल्कि धाम का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने नौ शिलाओं के पूजन के बाद धाम निर्माण की एक शिला को स्थापित किया। प्रधानमंत्री के हाथ से कल्कि धाम शिलान्यास का असर यह है कि अभी कल्कि धाम निर्माण शुरु भी नहीं हुआ कि शिलान्यास के अगले दिन ही श्रद्धालु यहां पहुंचने लगे।

श्रद्धालुओं ने गर्भगृह की परिक्रमा कर पूजित शिलाओं को किया नमन
19 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कल्कि धाम का शिलान्यास किये जाने के बाद मंगलवार को आयोजन स्थल पर कर्मचारी टैंट उखाड़ने के काम में लगे थे। इसी दौरान एक कार आयोजन स्थल के नजदीक आकर रुकी। कुछ महिलाएं व पुरुष कार से नीचे उतरे और फिर कल्कि धाम गर्भगृह की परिक्रमा शुरु कर दी। परिक्रमा के बाद इस परिवार ने गर्भगृह में रखीं पूजित शिलाओं के आगे हाथ जोड़कर सर झुकाया। इसके कुछ देर बार एक बाइक पर पति पत्नी अपने छोटे बच्चे के साथ पहुंचे। इस दंपति ने भी गर्भगृह की परिक्रमा कर पूजा अर्चना की। पूछने पर बताया कि वह अमरोहा के वंश गोपाल तीर्थ के निकट रहते हैं। कल टीवी पर प्रधानमंत्री को धाम का शिलान्यास करते देखा तो खुद को रोक नहीं पाये। इसी तरह यहां सुबह से शाम तक श्रद्धालु आते रहे।

ये भी पढ़ें:- संभल: शादी में खाना खाने से घराती-बाराती समेत 130 को फूड प्वाइजनिंग, 11 गंभीर

ताजा समाचार