लखनऊ: EVM में हो सकती है गड़बड़ी, लूटे जा सकते है मत, राजस्थान से आए शख्स ने यूपी में किया दवा

लखनऊ: EVM में हो सकती है गड़बड़ी, लूटे जा सकते है मत, राजस्थान से आए शख्स ने यूपी में किया दवा

लखनऊ, अमृत विचार। ईवीएम (EVM) में कोई गड़बड़ी नहीं हो सकती है यह बात गलत है। उसमें भी गड़बडी हो सकती है। यह दावा किया है। राजस्थान से आए पवन कुमार ने। उन्होंने यह दवा राजधानी स्थित प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान किया है। पवन कुमार ने एक ई.वी.एम. दिखाया। जिसमें दो बार केला का बटन दबाने पर दोनों बार दिखता तो केला ही है लेकिन छपता एक केला और एक सेब है

ई.वी.एम. हटाओ सेना व राइट टू रिकाल पार्टी के भीलवाड़ा, राजस्थान के रहने वाले पवन कुमार एक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन का प्रदर्शन कर रहे थे। जिसमें उन्होंने दिखाया कि दो बार लगातार केला चिन्ह पर बटन दबाने पर दोनों बार वी.वी.पी.ए.टी. मशीन में दिखेगा तो केला ही लेकिन प्रिंटर के अंदर एक पर्ची केला की छपेगी और दूसरी सेब की। यह मशीन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली के इंजीनियर और अमरीका से स्नातकोत्तर डिग्री हासिल किए हुए अहमदाबाद के रहने वाले राहुल चिमनभाई मेहता ने बनाई है जो खुद ई.वी.एम. हटाओ सेना व राइट टू रिकाल पार्टी से भी जुड़ हुए हैं।

उन्होंने बताया कि  इस प्रदर्शन का उद्देश्य मात्र इतना है कि ई.वी.एम. के बारे में चुनाव आयोग जो दावे कर रहा है कि ई.वी.एम. में कोई गड़बडी नहीं हो सकती उसको गलत साबित करना। जो लोग वी.वी.पी.ए.टी. की 100 प्रतिशत पर्चियां गिनने की बात कर रहे हैं वे भी समझ लें कि उसमें भी गड़बड़ी की सम्भावना है। अतः राइट टू रिकॉल पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) दोनों मानती हैं कि ई.वी.एम. की जगह मतपत्र से चुनाव कराना ही सही विकल्प है जिसमें गड़बड़ी कम से कम कैमरे में पकड़ी तो जा सकती है।

यह भी पढ़ें:-एल्विश यादव समेत आठ के खिलाफ नोएडा पुलिस ने दाखिल की 1200 पन्नौ की चार्जशीट