बसपा नेता सतीश चंद्र ने किया रामलला के दर्शन, कहा- अब बदला लेने का वक्त आ गया

बसपा नेता सतीश चंद्र ने किया रामलला के दर्शन, कहा- अब बदला लेने का वक्त आ गया

अयोध्या। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बसपा ने आज शुक्रवार से ब्राह्मण सम्मेलन का आगाज कर दिया है। हालांकि, इस ब्राह्मण सम्मेलन का नाम बदलकर ‘प्रबुद्ध वर्ग संवाद सुरक्षा सम्मान विचार गोष्ठी’ कर दिया गया है। पहला सम्मेलन आज रामनगरी अयोध्या में किया गया। जहां बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पहुंचे। …

अयोध्या। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बसपा ने आज शुक्रवार से ब्राह्मण सम्मेलन का आगाज कर दिया है। हालांकि, इस ब्राह्मण सम्मेलन का नाम बदलकर ‘प्रबुद्ध वर्ग संवाद सुरक्षा सम्मान विचार गोष्ठी’ कर दिया गया है। पहला सम्मेलन आज रामनगरी अयोध्या में किया गया। जहां बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पहुंचे। यहां उन्होंने भगवान राम और राम मंदिर से लेकर ब्राह्णण समाज तक कई अहम मुद्दों बयान दिये। इस दौरान उन्होंने कहा कि जिस तरह यूपी में ब्राह्मणों का एनकाउंटर किया गया, उसका बदला लेने का वक्त आ गया है।

बसपा के इसी मिशन का आगाज करने सतीश चंद्र मिश्रा शुक्रवार को अयोध्या पहुंचे हैं। यहां उनके कई कार्यक्रम प्रस्तावित हैं। राम लला के दर्शन के अलावा उन्होंने सरयू तट पर आरती में भी हिस्सा लिया। अयोध्या में सतीश चंद्र ने कहा कि यहां आज जैसे शंखनाद कर शुरुआत हुई है, अगर ब्राह्मण साथ आया तो हमारी सरकार बनेगी, हमारी सरकार बनेगी तो राम का भव्य मंदिर हमारी सरकार में बनेगा।

सतीश मिश्रा ने ये भी कहा कि पहले हमने ब्राह्मणों से पूछा कि हाशिये पर क्यों हैं, ब्राह्मण अगर 13 प्रतिशत एक साथ आएगा तभी ब्राह्मण सत्ता की चाबी पायेगा। सतीश चंद्र ने कहा कि अगर 13 प्रतिशत ब्राह्मण और 23 प्रतिशत दलित मिलकर भाईचारा कायम कर लें तो सरकार बनाने से कोई रोक नहीं सकता। ब्राह्मणों के बीच की जाति और उपजाति की दीवार खत्म करनी होगी। सब उपजातियों को छोड़कर जब हम खुद को ब्राह्मण समझेंगे तभी ताक़त बनेंगे।

ब्राह्मण समाज के बहाने बीजेपी को घेरते हुए सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि ब्राह्मण समाज के लिए क्या किया ये बीजेपी से पूछा जाना चाहिए। मायावती जी ने हाथ में गणेश की मूर्ति लेकर नया नारा दिया था- हाथी नहीं गणेश है ब्रह्मा विष्णु महेश है। मायावती जी ने 15 ब्राह्मण को मंत्री बनाया था, 35 को चेयरमैन बनाया था, 15 को MLC बनाया था, 2200 ब्राह्मण समाज के वकीलों को सरकारी वकील बनाया, पहला चीफ सीक्रेट बनाया। जबकि बीजेपी में ब्राह्मण को गुलदस्ता भेंट करने के लिये रखा गया, शो केस की तरह रखा गया है।

सतीश चंद्र ने कहा कि हम दिखावे की पंडिताई नहीं करते, हम जन्म से ब्राह्मण हैं। योगी सरकार को घेरते हुए सतीश चंद्र ने कहा कि दलितों और ब्राह्मणों को इस सरकार में चिन्हित किया गया है। जिस तरह से एनकाउंटर में ब्राह्मणों को मारा गया है उसका बदला लेने का वक्त आ गया है। इसस पहले बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने अयोध्या पहुंचकर रामलला के दर्शन किए इसके उपरांत हनुमान गाढ़ी पहुंच कर बजरंग बली के चरणों में माथा टेका।

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement