भारत को सीओपी-28 जलवायु वित्त पोषण पर स्पष्ट रूपरेखा बनने की उम्मीद

भारत को सीओपी-28 जलवायु वित्त पोषण पर स्पष्ट रूपरेखा बनने की उम्मीद

नई दिल्ली। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दुबई यात्रा से पहले बृहस्पतिवार को कहा कि भारत को दुबई में चल रहे सीओपी-28 में जलवायु वित्त पोषण पर एक स्पष्ट रूपरेखा पर सहमति बनने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री मोदी, विश्व जलवायु कार्रवाई शिखर सम्मेलन में भाग लेने और तीन अन्य उच्च स्तरीय कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए आज शाम दुबई रवाना हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें - शांति समझौते के बाद मणिपुर में शांति के एक नए युग की शुरूआत: बीरेन सिंह

क्वात्रा ने कहा कि जलवायु कार्रवाई के प्रति भारत का दृष्टिकोण इसकी सभ्यता के लोकाचार से गहराई से जुड़ा हुआ है और यह हमारी महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय नीतियों में परिलक्षित होता है। प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार शाम दुबई से स्वदेश लौट आएंगे।

कांफ्रेंस ऑफ पार्टी-28 (सीओपी-28) एक ऐसा सम्मेलन है जिसमें विश्व के नेता, नीति निर्माता, वैज्ञानिक और कार्यकर्ता जलवायु परिवर्तन की बढ़ती चुनौतियों का समाधान खोजने के लिए एकत्रित होते हैं। इसकी शुरुआत 2010 में हुई थी। 

ये भी पढ़ें - प्रधानमंत्री मोदी ने लॉन्च की योजना, देश में 10000 से बढ़कर 25 हजार होगी जन औषधि केंद्रों की संख्या

ताजा समाचार

प्रतापगढ़: विद्यालय में गड़बड़ी पर बिफरे डीआईओएस, प्रधानाध्यापक समेत चार का रोका वेतन
Kanpur: प्रेमजाल में फंसाकर प्रेमिका ने किया ब्लैकमेल; छीन ली कार, खाते से उड़ाए 40 हजार, पीड़ित की मां ने दर्ज कराई रिपोर्ट
लखनऊ: पेट और किडनी में फैले कैंसर की जटिल सर्जरी कर मासूम को दी नई जिंदगी 
हरदोई में बाढ़ की चपेट में आए 83 स्कूल 18 जुलाई तक बंद, डीएम ने जारी किया आदेश-पढ़िए कहां लगेगी शिक्षकों की हाजिरी  
बरेली: 11970 में सिर्फ 12 शिक्षकों ने ही दर्ज की ऑनलाइन उपस्थिति, महानिदेशक नाराज
बरेली: इन्कम टैक्स रिटर्न भरने की तारीख नजदीक, विभाग का पोर्टल सुस्त