बरेली में दुर्घटनाग्रस्त कछुए के प्राण बचाने की कोशिश जारी  

बरेली में दुर्घटनाग्रस्त कछुए के प्राण बचाने की कोशिश जारी  

बरेली, अमृत विचार। भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आइवीआरआई), इज्जतनगर के वैज्ञानिक दुर्घटना के शिकार एक कछुए को बचाने में लगे हैं। आईवीआरआई के वन्यजीव केंद्र के प्रधान वैज्ञानिक एवं प्रभारी डॉ. एएम पावड़े ने बुधवार को बताया कि बदायूं के कुछ समाजसेवी आठ जुलाई को दुर्घटना के शिकार एक कछुए को संस्थान में लेकर आये थे। दरअसल कछुए की पीठ (आवरण) के ऊपर से कोई बड़ा वाहन उसे कुचलता हुआ निकल गया था। 

उन्होंने बताया कि परीक्षण से पता चला कि कछुए का सख्त आवरण या खोल टूट गया है और ऐसी स्थिति में कछुए का जीवित बचना मुश्किल होता है। पावड़े ने बताया उसके कवर को जोड़ने के अनेक प्रयासों में कामयाबी नहीं मिलने के बाद ऑर्थो सर्जिकल पिन की एक रिंग बनाई गई और उन्हें जोड़ने के लिए स्टेपलर का इस्तेमाल किया गया जिससे फ़िलहाल सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि वे कछुए को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। बरेली की प्रभागीय वनाधिकारी (डीएफओ) दीक्षा भंडारी ने बताया कि उनकी अनुमति से घायल कछुआ आइवीआरआई में इलाज के लिए भेजा गया था। 

ये भी पढ़ें -गोंडा: फाइनेंस कंपनी के एजेंट से हुई लूट का खुलासा, मास्टरमाइंड समेत 5 गिरफ्तार

ताजा समाचार

UP में बड़ा एक्शन, ADG की रेड के बाद बलिया में नरही SHO और कोरन्टाडीह चौकी का पूरा स्टाफ Suspend   
कांग्रेस सांसद ने सरकार की तुलना ईस्ट इंडिया कंपनी से की, सरकारी संपत्तियों को बेचने का लगाया आरोप
बरेली: बच्चों के बुखार की न करें अनदेखी...दो महीने में 4 में मिले 'मेनिनजाइटिस' के लक्षण
हल्द्वानी: बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता व निवर्तमान पार्षद के बीच विवाद ने पकड़ा तूल
Kanpur: बढ़ा हुआ बिजली का बिल आने से उपभोक्ता परेशान; समस्या दूर करने के लिए केस्को ने लगाए कैंप, अब तक आईं इतनी शिकायतें...
यह “कुर्सी बचाओ” बजट है.., विपक्ष ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- किसानों को छल रही सरकार