रुद्रपुर: 152 छात्रों को पढ़ा रहे एक शिक्षक

रुद्रपुर: 152 छात्रों को पढ़ा रहे एक शिक्षक

ओपी चौबे, अमृत विचार, रुद्रपुर। तराई के सबसे बड़े सरदार भगत सिंह राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में लंबे समय से प्रोफेसरों का का टोटा बना हुआ है। मानक के अनुसार 80 छात्र-छात्राओं के लिए एक प्रोफेसर निर्धारित किए गए हैं लेकिन वर्तमान समय में 152 छात्रों को एक प्रोफेसर पढ़ा रहे हैं। ऐसे में शिक्षा के …

ओपी चौबे, अमृत विचार, रुद्रपुर। तराई के सबसे बड़े सरदार भगत सिंह राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में लंबे समय से प्रोफेसरों का का टोटा बना हुआ है। मानक के अनुसार 80 छात्र-छात्राओं के लिए एक प्रोफेसर निर्धारित किए गए हैं लेकिन वर्तमान समय में 152 छात्रों को एक प्रोफेसर पढ़ा रहे हैं। ऐसे में शिक्षा के गुणवत्ता पर सवाल उठना लाजमी है।

डिग्री कॅलेज की स्थापना 1974 में की गई थी। उस समय कॉलेज में 47 शिक्षक विद्यार्थियों को पढ़ा रहे थे, जबकि छात्रों की तादात दो हजार से भी कम थी। लेकिन वर्तमान समय में छात्र-छात्राओं की संख्या सात हजार के आस-पास पहुंच गई है। जबकि अभी भी कक्षाओं में प्रवेश जारी है। इन सात हजार छात्र-छात्राओं को महज 46 प्रोफेसर पढ़ा रहे है। जिसमें 36 नियमित व 10 संविदा के प्रोफेसर शामिल है। 48 वर्षों में छात्रों की संख्या तो तीन गुनी हो गई है। लेकिन प्रोफेसरों की संख्या में कोई इजाफा नहीं हुआ है। जिसका असर विद्यार्थियों की पढ़ाई पर भी देखने का मिल रहा है।

117 सृजित पदों में खाली हैं 71
रुद्रपुर। सरदार भगत सिंह डिग्री कॉलेज में प्रोफेसरों के 117 पद सृजित हैं, जिसमें 71 पद खाली हैं। जबकि नियमित और संविदा कर्मचारियों को लेकर 24 नॉन टीचिंग कर्मचारी कार्यरत हैं लेकिन सृजित पद 45 हैं। ऐसे में कॉलेज में 21 नॉन टीचिंग कर्मचारियों के पद भी खाली है।

उच्च शिक्षा निदेशालय, हल्द्वानी से 71 प्रोफेसरों सहित 21 कर्मचारियों की नियुक्ति की मांग पत्र भेजकर कई बार की गई है। लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। आशा है कि जल्द ही प्रोफेसरों सहित कर्मचारियों की नियुक्ति हो जाएंगी।

– प्रोफेसर कमल किशोर पांडे, प्राचार्य, सरदार भगत सिंह डिग्री कॉलेज, रुद्रपुर

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement