बरेली: दबंगों ने खोखे और झोपड़ियों पर चलाया बुलडोजर, विरोध पर की पिटाई

पुलिस की मौजूदगी में बुलडोजर चलाए जाने का आरोप

बरेली: दबंगों ने खोखे और झोपड़ियों पर चलाया बुलडोजर, विरोध पर की पिटाई

नवाबगंज/बरेली, अमृत विचार। अतिक्रमण स्थायी हो या अस्थाई, इसे हटाने का जिम्मा नगर पालिका प्रशासन के साथ पुलिस-प्रशासन को भी है लेकिन नवाबगंज में दबंग अस्थाई अतिक्रमण हटाने के नाम पर गरीबों का शोषण कर रहे हैं। गुरुवार को दबंगों ने बुलडोजर से हाईवे किनारे कारोबार कर रहे एक दर्जन लोगों के खोखे और उनकी झोपड़ियां तोड़ दीं। विरोध कई ने किया लेकिन एक व्यक्ति को खूब पीटा। उसकी हालत गंभीर है। बरेली रेफर किया है। दूसरे पक्ष का एक व्यक्ति घायल हुआ है। पुलिस मामले को मारपीट बताकर पल्ला झाड़ रही है।

ये भी पढ़ें- बरेली: आरोपी टीटीई की तलाश में लगाई गईं तीन टीमें, फौजी को धक्का देने का आरोप

यह भी चर्चा है पुलिस की मौजूदगी में दबंगों ने कहर ढहाया। नगर के उत्तर में रामलीला मैदान व हाईवे के बीच स्थित भूमि पर कुछ लोग वर्षों से कारोबार करते आ रहे हैं और इन लोगों ने यहीं खोखे के साथ आशियाने बना रखे थे। गुरुवार सुबह कुछ लोग जेसीबी लेकर पहुंचे और इनके खोखे और आशियाने तोड़ दिए। लोगों ने विरोध भी किया। इस दौरान विरोध पर नानक चन्द को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। घायल हालत में सीएचसी नवाबगंज पहुंचे नानक चंद को बरेली भेज दिया। डेढ़ घंटे तक चले तोड़फोड़ से पुलिस अनजान बनी रही। एसडीएम के निर्देश पर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और तोड़फोड रुकवाई।

वीडियो बनाने वालों के मोबाइल छीने
पीड़ितों ने बताया कि दबंग जब बुल्डोजर लेकर आए तो उनके साथ पुलिस भी थी। तोड़फोड के दौरान जिसने आवाज उठाने का प्रयास किया उसे डरा दिया गया या फिर थाने ले गए। फोटो व वीडियो बनाने वालों के मोबाइल पुलिस ने छीन लिए। जबकि पुलिस का कहना है कि वह मारपीट की सूचना पर घटना स्थल पर पहुंची थी।

गरीबों को बेदखल कर कब्जे की कोशिश का आरोप
रामलीला मैदान व हाईवे के बीच की ये पट्टी वास्तव में राजस्व अभिलेखों में कुछ लोगों के नाम दर्ज है। जिस पर ये लोग कब्जा करने का प्रयास करते रहे हैं
, लेकिन रामलीला सोसाइटी व नगर वासियों के विरोध के चलते कब्जा नहीं कर सके, जबकि एक दर्जन से भी अधिक लोग टायर पंक्चर, लकड़ी का फर्नीचर व मोटर साइकिल मैकेनिक आदि के साथ मार्ग किनारे कारोबार कर रहे हैं। जिन्हें दबंगों बेदखल कर दिया गया।

भूस्वामी पंकज कुमार के पक्ष में सिविल जज सीनियर डिवीजन के न्यायालय से उनके कब्जे व दखल में किसी तरह का हस्तक्षेप न करने के आदेश हैं। खोखे उजाड़ने की जानकारी पहले उन्हें नहीं थी, मारपीट की सूचना मिलने पर फोर्स मौके पर गया, यथा स्थिति कायम कर दी-राजीव कुमार सिंह, कोतवाल।

रामलीला मैदान में मारपीट की सूचना मिली थी। उन्होंने थाना पुलिस को मौके पर जाकर शांति व्यवस्था बनाए रखने के साथ ही अवैध कब्जा न होने की बात कही थी-राजीव कुमार शुक्ल, एसडीएम।

ये भी पढ़ें- बरेली: थैलेसीमिया बीमारी है गंभीर, छह माह में खून चढ़ाना अनिवार्य

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement