अल्मोड़ा: प्रशासनिक अधिकारी पर नाबालिग के साथ छेड़ाखानी का आरोप, पत्नी पर भी कई आरोप

अल्मोड़ा: प्रशासनिक अधिकारी पर नाबालिग के साथ छेड़ाखानी का आरोप, पत्नी पर भी कई आरोप

अल्मोड़ा, अमृत विचार। दिल्ली में कार्यरत एक प्रशासनिक अधिकारी पर नाबालिग से छेड़छाड़ का आरोप लगा है। मामले की जांच राजस्व पुलिस कर रही है अभी तक की प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में पीड़िता के बयान दर्ज हो चुके हैं। पीड़िता के मुताबिक एवी प्रेमनाथ व उसकी पत्नी मजखाली स्थित डांडा-कांडा गांव में …

अल्मोड़ा, अमृत विचार। दिल्ली में कार्यरत एक प्रशासनिक अधिकारी पर नाबालिग से छेड़छाड़ का आरोप लगा है। मामले की जांच राजस्व पुलिस कर रही है अभी तक की प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में पीड़िता के बयान दर्ज हो चुके हैं।

पीड़िता के मुताबिक एवी प्रेमनाथ व उसकी पत्नी मजखाली स्थित डांडा-कांडा गांव में प्लीजेंट वैली फाउंडेशन स्कूल नाम का एक एनजीओ चलाता है, और शुरू से ही उस पर गलत नजर रखता था। बीते चार माह पूर्व प्लीजेंट वैली में उसने मेरा शोषण व उत्पीड़न किया। पटवारी से शिकायत करने की कोशिश की लेकिन प्राथमिकि दर्ज नहीं हो पाई जिसके बाद डीएम और एसएसपी से न्याय की गुहार लगाई।

और मामले की गंभारता को देखते हुए एडीएम ने राजस्व पुलिस को तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए। राजस्व पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपित एवी प्रेमनाथ के खिलाफ आईपीसी की धारा 354, 66डी आईटी एक्ट व पॉक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीड़िता के स्वास्थ्य परीक्षण के बाद 164 के बयान कराए गए हैं। आरोपी दिल्ली सरकार में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी पद पर तैनात है। वहीं उसकी पत्नी पर भी जमीन कब्जाने सहित कई अन्य मामजले पहले से दर्ज हैं।

तहसीलदार कुलदीप पांडे ने बताया कि जल्द ही पूरे मामले को रेगुलर पुलिस के को सौंप दिया जाएगा। इससे पहले भी एवी प्रेमनाथ पर डांडा-कांडा गांव में अतिक्रमण व अवैध निर्माण का मामला चल रहा है। इस मामले में एसडीएम ने नोटिस भी जारी किया था। फिलहाल इस पूरे मामले को लेकर गांव में आक्रोश की लहर है और प्रशासन पूरी तरह अलर्ट हे।

उधर क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि मामला राजस्व पुलिस से तुरंत सिविल पुलिस को सौंपा जाना चाहिए और नाबालिग का मुकदमा और बातों को गंभीरता से ने लेने वाले राजस्व अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। एक तो पहले ही अंकिता हत्याकांड का मामले को लेकर उत्तराखंड में उबाल है वहीं अब प्रशासनिक अधिकारी की इस हरकत से गांव में आक्रोश की लहर व्याप्त है।

Post Comment

Comment List