PM मोदी ने जम्मू-कश्मीर को दी 32 हजार करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं की सौगात

PM मोदी ने जम्मू-कश्मीर को दी 32 हजार करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं की सौगात

जम्मू। प्रधानमंत्री मोदी ने आज जम्मू-कश्मीर में 32,000 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं की शुरुआत की। बता दें पीएम मोदी ने आईआईटी, आईआईएम, केंद्रीय विश्वविद्यालयों सहित देश भर के राज्यों में 13,500 करोड़ रुपये से अधिक की विकास परियोजनाओं की शुरुआत की है।

वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 पूर्ववर्ती राज्य के विकास की राह में सबसे बड़ी बाधा था। मोदी ने यह भी कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के बाद जम्मू-कश्मीर ने सभी इलाकों और सभी क्षेत्रों में संतुलित विकास देखा है जो अब एक केंद्रशासित प्रदेश है। 

जम्मू-कश्मीर के लिए 32,000 करोड़ रुपये से अधिक की कई परियोजनाओं और देश के अन्य हिस्सों के लिए 13,500 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की शुरुआत करने के बाद एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि सरकार पहली बार जम्मू-कश्मीर में लोगों के दरवाजे पर पहुंची है। उन्होंने कहा, ‘यह मोदी का गारंटी है और यह जारी रहेगा।’ 

प्रधानमंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर में सर्वांगीण विकास लाने में मुख्य बाधा था जिसे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने निरस्त कर दिया। मोदी ने मंगलवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को ‘परिवारवाद’ की राजनीति से मुक्ति मिल रही है और यह पूर्ववर्ती प्रदेश आज विकसित होने के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है। 

उन्होंने कहा, ‘एक वो दिन भी थे, जब जम्मू-कश्मीर से सिर्फ निराशा की खबरें आती थीं। बम, बंदूक, अपहरण, अलगाव... ऐसी ही बातें जम्मू-कश्मीर का दुर्भाग्य बना दी गई थीं। लेकिन आज जम्मू-कश्मीर विकसित होने के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है।’

 प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर बहुत दशकों तक परिवारवाद की राजनीति का शिकार रहा है और परिवारवाद की राजनीति करने वालों ने हमेशा सिर्फ अपना स्वार्थ देखा, जनता के हितों की चिंता नहीं की। उन्होंने कहा, ‘परिवारवाद की राजनीति का सबसे ज्यादा अगर कोई नुकसान उठाता है, तो हमारे युवा उठाते हैं। जो सरकारें सिर्फ एक परिवार को आगे बढ़ाने में जुटी रहती हैं, वो सरकारें अपने राज्य के दूसरे युवाओं का भविष्य ताक पर रख देती हैं।’ उन्होंने कहा कि ऐसी परिवारवादी सरकारें युवाओं के लिए योजनाएं बनाने पर भी प्राथमिकता नहीं देती। 

उन्होंने कहा, ‘सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचने वाले लोग कभी आपके परिवार की चिंता नहीं करेंगे। मुझे खुशी है कि जम्मू-कश्मीर को इस परिवार राजनीति से मुक्ति मिल रही है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने ‘विकसित जम्मू-कश्मीर’ का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा, ‘‘विकसित भारत का मतलब है विकसित जम्मू-कश्मीर।’’ उन्होंने कहा, ‘मुझे आप पर विश्वास है कि हम विकसित जम्मू-कश्मीर बनाकर रहेंगे। 70-70 साल से अधूरे आपके सपने आने वाले कुछ ही वर्षों में मोदी पूरे करके देगा।’ 

जम्मू-कश्मीर में जी20 के सफल आयोजन का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि जब यहां ऐसे आयोजन होते हैं तो इसकी गूंज बहुत दूर तक पहुंचती है। उन्होंने कहा, ‘पूरी दुनिया, जम्मू-कश्मीर की सुंदरता, यहां की परंपरा-संस्कृति और आप सभी के स्वागत से बहुत प्रभावित हुई है। आज हर कोई जम्मू-कश्मीर आने के लिए तत्पर है।’ 

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के संविधान में जिस सामाजिक न्याय का भरोसा दिया गया है, वह भरोसा पहली बार जम्मू-कश्मीर के सामान्य जन को भी मिला है। उन्होंने कहा, ‘हमारे शरणार्थी परिवार हों, वाल्मिकी समुदाय हो, सफाई कर्मचारी हों, उनको लोकतांत्रिक हक मिला है। अब जम्मू-कश्मीर का कोई भी इलाका पीछे नहीं रहेगा, सब मिलकर आगे बढ़ेंगे। यहां जो लोग दशकों तक अभाव में जी रहे थे, उन्हें भी आज सरकार के होने का एहसास हुआ है।’

ये भी पढे़ं-सदन में हंगामे और नारेबाजी पर गुजरात विधानसभा से कांग्रेस के 10 सदस्य निलंबित

 

ताजा समाचार

Kanpur Dehat News: आंधी और बारिश से बढ़ी किसानों की धड़कन, गेहूं की फसल को पहुंचा नुकसान
बरेली: मेयर उमेश गौतम के समर्थन में आया ब्राह्मण समाज, कुर्मी समाज के आरोपों को बताया निराधार
लखीमपुर-खीरी: डीएम ने इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का किया निरीक्षण, दिए निर्देश
सुपर स्टार सिंगर-3 के 15वें राउंड में पीलीभीत के क्षितिज ने बनाई जगह, कल से होगी वोटिंग
Kannauj: किशोरी से दुष्कर्म का आरोपी भेजा गया जेल; सात माह पहले दिया था घटना को अंजाम, इस तरह खुली पोल
लखनऊ: लोहिया संस्थान में शुरू हुआ सुपर स्पेशलिटी आईसीयू, किडनी के मरीजों को एक छत के नीचे मिलेगा पूरा इलाज