प्रयागराज: नमाज के बाद एक दूसरे को गले लगाकर दी ईद-उल-फितर की बधाई

प्रयागराज: नमाज के बाद एक दूसरे को गले लगाकर दी ईद-उल-फितर की बधाई

प्रयागराज/ नैनी, अमृत विचार। प्रयागराज में नैनी समेत पूरे दिले में आज ईद-उल-फितर का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। ईद का त्योहार भाईचारे और सौहार्द का प्रतीक है। इस दिन मुस्लिम लोग नमाज पढ़कर पूरे विश्व में शांति और अमन की दुआ करते हैं। इसके साथ ही नमाज पढ़ने के बाद एक दूसरे के घर जाकर मुंह मीठा करते हैं और एक दूसरे से गले लगकर ईद मुबारक कहते हैं।

ईद का त्योहार खुशियों और भाईचारे का त्योहार है। रमजान का पाक महीना पूरा होने के बाद शव्वाल महीने की पहली तारीख को ईद का त्योहार मनाया जाता है। बुधवार शाम शव्वाल का चांद नजर आया जिससे यह पुष्टि हो गई कि गुरुवार को ईद मनाई जाएगी। ईद के दिन सबसे पहले नमाज अदा की जाती है।

81

नमाज के बाद एक खास दुआ भी होती है, जिसमें पूरे विश्व के लिए शांति और अमन की कामना की जाती है। ईद की नमाज पढ़ने के बाद लोग गले लगकर एक दूसरे को ईद के त्योहार की बधाई देते हैं  नमाज के बाद घर जाकर मीठा खाने का रिवाज होता है। 

इसी वजह से ईद पर मुस्लिम लोग एक दूसरे के घर जाते हैं और मीठा खाने के बाद ईद की मुबारकबाद देते हैं। मीठे पकवानों में ईद के दिन सेवइयां और शीर खुरमा या खीर को जरूर बनाया जाता है। इसके अलावा भी दस्तरखान पर तरह-तरह के पकवान सजाए जाते हैं। नैनी के विभिन्न ईदगाहों और मस्जिदों में ईद की नमाज अदा की गई। 

प्रयागराज के चौक, अटाला, करैली, कोठपर्चा सहित ईदगाह और मस्जिदों के अलावा नैनी के स्टेशन रोड पर स्थित ईदगाह में नमाज के लिए बड़ी जमात जुटी थी। लोगों ने मुल्क के अमन, चैन के लिए दुआ मांगी। मुस्लिम मोहल्लों में सजावट की गई है। बच्चों में इस त्योहार को लेकर खासा उत्साह देखने को मिला।

ताजा समाचार

Kanpur News: सेंट्रल स्टेशन की बदहाली की कहानी, भीषण गर्मी में यात्रियों को न पंखा और न पानी
बिना अनुमति के जैकी श्रॉफ के नाम, तस्वीर और आवाज का इस्तेमाल करना पड़ेगा महंगा, दिल्ली HC ने लगाई रोक
समर वैकेशन का बना रहे हैं प्लान, अपने बैकपैक में इन चीजों को रखना न भूलें
खटीमा: सेवानिवृत्त फौजी के मकान से लाखों की नकदी और जेवरात चोरी
बाराबंकी: डीएम-सीडीओ की पहल लाई रंग, तीन माह में बढ़े 25,964 वोटर, अब जिले में हुए कुल इतने मतदाता
Kanpur: गंगा में गिर रहे अनटैप्ड सीवेज नाले, बायोरेमिडिएशन न होने से नदी के जल को कर रहे दूषित, इन घाटों पर हो रही लापरवाही