बरेली: पीलीभीत बाईपास पर सड़क से फैली मिट्टी से निकलना मुश्किल

बरेली: पीलीभीत बाईपास पर सड़क से फैली मिट्टी से निकलना मुश्किल

बरेली, अमृत विचार। पीलीभीत बाईपास पर पाइप लाइन बिछाने की वजह से लोगों की दिक्कतें कम नहीं हो रही हैं। पाइपलाइन बिछाने के लिए खोदे गए गड्ढों की मिट्टी से फिसलन हो रही है और धूल भी उड़ रही है। वहीं जल निगम के अफसरों की मानें तो पाइपलाइन बिछाने का काम लगभग पूरा हो गया है।

नमामि गंगे परियोजना के तहत 234 करोड़ की लागत से हरुनगला में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) काम अंतिम चरण में है। अफसर दिसंबर 2023 तक काम पूरा होने का दावा कर रहे हैं। पिछले दिनों बैरियर टू पुलिस चौकी से डोहरा मोड़ तक सीवर लाइन डाली गई थी। इस दौरान सड़क की खुदाई करने के बाद काफी समय तक सड़क की मरम्मत नहीं कराने पर राहगीरों ने दिक्कत झेली थी।

रोड वन वे होने से जाम भी लगता था। प्रधानमंत्री के त्रिशूल एयरपोर्ट पर आगमन के चलते इस सड़क का काम दो दिन में पूरा कर दिया गया था। अब सेटेलाइट पर बनाए गए पंपिंग स्टेशन से हरुनगला तक पाइप लाइन को एसटीपी से जोड़ा जा रहा है।

यह काम करीब दस दिन से चल रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि पाइप लाइन बिछाने के साथ-साथ ही मिट्टी समतल कर दी जाए तो वाहन चालकों को काफी हद तक सहूलियत हो जाएगी।

छिड़काव और रोड से हटाई जा रही मिट्टी
कार्यदायी संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजर राजवर्धन ने बताया कि पाइपलाइन बिछाने के लिए चल रही खुदाई का काम लगभग पूरा हो चुका है। वाहन चालकों को किसी तरह की असुविधा न हो इसलिए गड्ढा पाटने के बाद मिट्टी पर पानी का छिड़काव भी कराया जा रहा है। रोड पर जो मिट्टी फैली ही उसे भी साफ कराने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें- बरेली: अधिवक्ता पहुंचा एसएसपी ऑफिस, डॉक्टर के बेटे-बेटी समेत तीन पर लगाए गंभीर आरोप 

 

Online Jobs Apply