बरेली: निपुण एसेसमेंट परीक्षा की बैठक अव्यवस्था की भेंट चढ़ी, पर्यवेक्षक‌ ड्यूटी पर भी उठे सवाल

बरेली: निपुण एसेसमेंट परीक्षा की बैठक अव्यवस्था की भेंट चढ़ी, पर्यवेक्षक‌ ड्यूटी पर भी उठे सवाल

परीक्षा संपन्न कराने के लिए दूसरे विघालयों के अध्यापक-अध्यापिकाओं को लगाया गया है। मगर इसमें भी पारदर्शिता का पालन नहीं किया गया है।

बरेली, अमृत विचार। परिषदीय विघालयों मे अध्यनरत छात्र-छात्राओं के शैक्षिक स्तर का आंकलन करने के लिए निपुण एसेसमेंट (नेट) परीक्षा आयोजित हो रही है। पहली बार हो रही इस परीक्षा को लेकर ब्लाक संसाधन केंद्र रिछा मे ब्लाक रिछा (दमखोदा) के विघालयों के प्रधानाध्यापकों की बुलाई गई बैठक अव्यवस्था की भेंट चढ़ गई। उधर, पर्यवेक्षक ड्यूटी लगाने मे भी लापरवाही बरते जाने के आरोप हैं।

स्थाई बीईओ विहीन चल रहे ब्लाक रिछा ( दमखोदा) में परीक्षा के लिए आई ओएमआर सीट और प्रश्नपत्र भी बंटने थे, इसके लिए ब्लाक का प्रभार देख रहे बहेड़ी ब्लाक के बीईओ प्रेमसुख गंगवार को अपनी निगरानी में ओएमआर सीट व प्रश्नपत्रों का वितरण कराना था, मगर वह नहीं आए। उन्होंने एआरपी की टीम को इसकी जिम्मेदारी दी थी। बेहद गोपनीय प्रश्नपत्र व ओएमआर सीट को भारी अव्यवस्था और अफरा-तफरी के बीच  बीआरसी हॉल में मौजूद प्रधानाध्यापकों को बांटे गए।

बाद में आए ऑब्जर्वर ने परीक्षा के बारे मे बताया। मगर तब तक ज्यादातर अध्यापक जा चुके थे। इस दौरान एआरपी हरीश गंगवार, मोहम्मद फहीम, डॉ. देवकुमारी गंगवार, उवैश खान, प्राथमिक शिक्षक संघ के ब्लाक अध्यक्ष विनोद वर्मा, मंत्री मोहम्मद हसन, जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ अध्यक्ष ब्रह्मदेव आर्या, मंत्री दशरथ सिंह गंगवार, अरविन्द गंगवार, मनोज गंगवार, प्रमोद गंगवार, योगेन्द्र गंगवार आदि मौजूद रहे।

उधर, परीक्षा संपन्न कराने के लिए दूसरे विघालयों के अध्यापक-अध्यापिकाओं को लगाया गया है। मगर इसमें भी पारदर्शिता का पालन नहीं किया गया है। सूत्र बताते हैं कि ब्लाक संसाधन केंद्र से लापरवाही बरती गई है। 

प्रेमसुख गंगवार (बीईओ, बहेड़ी ब्लाक) ने बताया कि मैं बहेडी में था। वहां वितरण करा रहा था। दो शिफ्ट मे प्रधानाध्यापकों को बुलाया गया था। अव्यवस्था क्यों हुई, यह देखूंगा।

ये भी पढ़ें : बरेली: स्नातक द्वितीय वर्ष के परिणाम न आने से परेशानी, तीन महीने पहले परीक्षा हुई थी समाप्त

Post Comment

Comment List