बरेली: स्मार्ट सिटी में खरीदकर आईं हैंडवाश मशीनें कार्यालयों में खा रहीं जंक

कलेक्ट्रेट, एसएसपी कार्यालय, जिला अस्पताल, सीआई पार्क, गांधी उद्यान में थीं मशीनें

बरेली: स्मार्ट सिटी में खरीदकर आईं हैंडवाश मशीनें कार्यालयों में खा रहीं जंक

बरेली, अमृत विचार।  कोरोना के समय स्मार्ट सिटी में खरीदकर आईं हैंडवाश और स्पेंसर मशीन अब जंक खा रही हैं। जिन विभागों को ये मशीनें दी गईं, वे जिम्मेदार इन मशीनों का सही उपयोग नहीं कर पाए। कोरोना का प्रकोप कम होने पर मशीनें कार्यालय के बाहर रख दी गई हैं। कुल 31 स्थानों पर 65 मशीनें रखी गई थीं।

ये भी पढ़ें- बरेली: पहले की अश्लील हरकत फिर गला घोटने का किया प्रयास, ससुरालियों पर रिपोर्ट दर्ज

कोरोना काल के समय शहरवासियों की सुविधा के लिए सरकारी कार्यालयों, पार्क, मंडी, रोडवेज, कोतवाली, थाने, पुलिस लाइन, बाजार सहित 31 स्थानों पर जरूरत के अनुसार मशीनें रखी गई थीं। दफ्तर अथवा पार्क में आने वाले हाथों को सैनिटाइज कर लें। इस सुविधा के लिए गांधी उद्यान, अक्षर विहार और सीआई पार्क के प्रवेश द्वार पर एक पैर से चलने वाली डिस्पेंसर मशीन, सेंसर युक्त डिस्पेंसर और हाथ धोने वाली मशीन रखी गई थीं। इसके अलावा जिला अस्पताल, जिला महिला अस्पताल, विकास भवन, राजकीय इंटर कॉलेज में एक- एक मशीन दी गई थी।

300 बेड अस्पताल में तीन सेंसर युक्त डिस्पेंसर और दो हाथ धोने वाली मशीनें दी गईं। वहीं रामपुर बाग हाइडिल आफिस, मानसिक अस्पताल, सिटी पोस्ट आफिस, पीडब्ल्यूडी , बिजली चीफ इंजीनियर कार्यालय, पंजाबी मार्केट, मंडी के बाहर भी एक-एक मशीन रखी गई थी। शहर के 31 स्थानों के लिए दी गईं इन मशीनों का रखरखाव भी संबंधित कार्यालय को करना था लेकिन अधिकांश जगह अब मशीनों को हटाकर बाहर रख दिया गया है। इससे यह मशीनें जंक खा रही हैं। अफसरों का कहना है कि इन मशीनों को सुधरवा कर उन्हीं कार्यालयों को दिया जाएगा। ताकि उनका सदुपयोग हो सके।

ये भी पढ़ें- बरेली: पासपोर्ट ऑफिस का सर्वर घंटों रहा डाउन, लोगों ने किया हंगामा

Post Comment

Comment List