तीन बार मुरादाबाद के सांसद रहे हैं डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क, सपा के टिकट पर 1996, 1998 और 2004 में दर्ज की थी जीत

तीन बार मुरादाबाद के सांसद रहे हैं डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क, सपा के टिकट पर 1996, 1998 और 2004 में दर्ज की थी जीत

मुरादाबाद, अमृत विचार। संभल के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क मुरादाबाद से भी तीन बार सांसद रह चुके हैं। उन्होंने समाजवादी पार्टी का झंडा बुलंद करते हुए मुरादाबाद में तीन बार जीत दर्ज कर संसद में पहुंचे थे। उनका राजनीतिक प्रभाव पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में था।

पांच बार के सांसद व चार बार के विधायक डॉ. बर्क जनता को अपने पक्ष में करने में पारंगत थे। तभी तो 94 वर्ष की उम्र में भी वह सांसद बने रहे। उनकी राजनीतिक कुशलता के विरोधी भी कायल थे। 21 फरवरी को उनके स्वास्थ्य का हाल जानने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मुरादाबाद के कांठ रोड स्थित निजी अस्पताल में आए थे। जहां उनके पौत्र व कुंदरकी के सपा विधायक जियाउर्रहमान बर्क और परिवार के सदस्यों के साथ मुलाकात की थी।

अब तक हुए 17 बार के लोकसभा चुनाव में मुरादाबाद सीट पर तीन बार सांसद बनने में डॉ. बर्क ने सफलता पाई थी। समाजवादी पार्टी के सिंबल पर वह मुरादाबाद से 1996, 1998 और 2004 में चुनाव जीत कर लोकसभा में पहुंचे थे। इसके बाद वह संभल लोकसभा क्षेत्र से दो बार सांसद बने। मुरादाबाद में तीन बार उनकी जीत के बाद सपा को दो बार हार मिली। 

1999 में अखिल भारतीय लोकतांत्रिक कांग्रेस के चन्द्र विजय सिंह ने चुनाव जीता था। लेकिन, 2004 में डॉ.बर्क ने सांसद बनकर साइकिल को लोकसभा तक पहुंचाया। इसके बाद 2009 में यहां से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के मोहम्मद अजहरुद्दीन ने जीत दर्ज की। 

2014 में भाजपा के कुंवर सर्वेश कुमार सिंह ने जीत दर्ज कर कमल खिलाया। इसके बाद 2019 में सपा के हाथ यह सीट डॉ. एसटी हसन की जीत से मिली। तीन बार यहां से सांसद रहे डॉ. बर्क के निधन से उनके शुभचिंतकों को गहरा धक्का लगा। सपा ही नहीं दूसरे दलों के नेता भी डॉ. बर्क को कुशल व मंझा राजनेता मानते हैं।

ये भी पढे़ं- बच्चों की अच्छी परवरिश के साथ तालीम जरूरी, बहुसंख्यक लोग शांतिप्रिय और मुसलमानों के शुभचिंतक : मदनी

 

ताजा समाचार