हल्द्वानी: बेस अस्पताल के फिजिशियन 'Code' में लिख रहे बाहर की दवा

हल्द्वानी: बेस अस्पताल के फिजिशियन 'Code' में लिख रहे बाहर की दवा

हल्द्वानी, अमृत विचार। बेस अस्पताल के एक फिजिशियन सर्दी-खांसी जैसी बीमारी के उपचार तक के लिए दवा बाहर से लिख रहे हैं। दवा को भी इस तरह से लिखा जा रहा है कि बेस अस्पताल के सामने वाले मेडिकल स्टोरों पर ही दवा मिल सकती है, अन्य कहीं नहीं।

सोबन सिंह जीना बेस अस्पताल में डॉक्टरों को बाहर से दवा लिखने की मनाही है। डॉक्टरों को निर्देश है कि जो भी दवा खत्म हो रही है या हो गई है उसकी सूचना दें, जिससे उन्हें तुरंत मंगाया जा सके। इसके बावजूद अस्पताल के डॉक्टर खुलेआम बाहर की दवा लिख रहे हैं।

हद तो तब हो गई जब अस्पताल के फिजिशियन ने सर्दी-खांसी के एक मरीज को बाहर की दवा लिखी और बताया है कि यह एंटीबॉयोटिक है। मरीज ने जब जन औषधि केंद्र पर पर्चा दिखाया तो उसे बताया कि दवा का सॉल्ट नहीं लिखा है। दवा का नाम इस तरह से लिखा है कि केवल कुछ ही मेडिकल स्टोर वाले ही पढ़ सकते हैं। पता चला कि डॉक्टर साहब की लिखी दवा को बेस अस्पताल के सामने मेडिकल स्टोर वाले ही पढ़ सकते हैं। 

अस्पताल में नहीं है दवाओं की कमी: पीएमएस
हल्द्वानी। बेस अस्पताल के पीएमएस डॉ. केके पांडेय ने बताया कि अस्पताल में सर्दी-खांसी के उपचार में इस्तेमाल होने वाली एंटीबॉरयोटिक दवा से लेकर अन्य सभी दवाएं मौजूद हैं। इसके बावजूद अगर दवाएं बाहर से मंगायी जा रही है। उन्होंने कहा कि कोई भी मरीज जिसको लगता है कि उससे बेवजह बाहर की दवा मंगाई जा रही है, वह सीधे आकर उनसे शिकायत कर सकता है।

ताजा समाचार