सड़क पर क्यों करते हैं लापरवाही ? वजह यहां जानिए

सड़क पर क्यों करते हैं लापरवाही ? वजह यहां जानिए

सिएटल। जरा सोचिए : आप सड़क पर गाड़ी चला रहे हैं तभी कोई दूसरी कार अचानक बहुत तेजी से आपकी गाड़ी के सामने से गुजर जाती है। अचानक से आपका भी मन करता है कि स्पीड बढ़ाकर उस गाड़ी वाले को सबक सिखा दूं, या उससे भी ज्यादा लापरवाही से गाड़ी चलाऊं या बस यूं ही आसपास की गाड़ियों पर चिल्लाना शुरू कर दूं । आम तौर पर ऐसा करने का कोई मतलब नहीं है और हो सकता है यह आपका स्वभाव भी न हो लेकिन असलियत यह है कि बीते तीन सालों में कई लोगों में ऐसा व्यवहार करने की इच्छा देखी गई है।

ये भी पढे़ं- बिहार उपचुनाव: 105 वर्षीय मतदाता वोट डालने मतदान केंद्र पहुंचा

इसके मूलभूत शारीरिक क्रिया विज्ञान संबंधी कारण क्या है? बात बस इतनी है कि जब ऐसी इच्छा राजमार्ग पर 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गाड़ी चलाने की होती है , या जाम में या जब ट्रैफिक लाइट लाल हो जाती है तब ऐसा होता है तो परिणाम विनाशकारी हो सकते हैं।

कोविड-19 ने ऐसे मामलों में वृद्धि की है। लॉकडाउन और अनिश्चितता के साथ, महामारी एक दीर्घकालिक आपदा रही है जिसने सभी को तनाव में डाल दिया है फिर चाहे वह हल्का हो या गंभीर। तनाव पर प्रतिक्रिया करते समय, मानव शरीर का एक सहज अधिभावी कार्य होता है - जीवित और सुरक्षित रहने के लिए प्रतिक्रिया।

लोग अक्सर ऐसा व्यवहार करते हैं जो इसके विपरीत लगता है लेकिन शारीरिक तंत्र की प्रतिक्रिया स्पष्ट होती है। जब हम अत्यधिक तनावग्रस्त होते हैं, खतरा महसूस करते हैं या खतरा दिखता है, तो हमारा लिम्बिक सिस्टम (दिमाग का वह हिस्सा जो हमारी व्यवहारगत या भावनात्मक प्रतिक्रिया से संबधित है) एक प्रतिक्रिया को शामिल करने के लिए सक्रिय हो जाता है जो हमारी रक्षा करेगा।

यहीं से 'लड़ाई, उड़ान या सन्न रह जाने' जैसे प्रतिक्रिया सामने आती है। तार्किक व्यवहार, अच्छे निर्णय लेने और परिणामों पर विचार करने के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क का हिस्सा प्रक्रिया से अलग हो जाता है। 

लिम्बिक सिस्टम तर्कहीन, भावनात्मक और कभी-कभी आक्रामक रूप से प्रतिक्रिया करता है। यहीं से वास्तविक प्रतिक्रिया शुरू होती है। जब लिम्बिक सिस्टम अत्यधिक सक्रिय होता है, तो लोग ऐसे काम कर सकते हैं जो अधिक लापरवाह, आवेगमय, यहां तक कि खतरनाक भी होते हैं।

ऐसा करने के लिये नहीं, बल्कि इसलिए कि मस्तिष्क का वह हिस्सा हमारे कार्यों के परिणामों पर विचार करने के लिए डिजाइन नहीं किया गया है। जैसा कि बहुत से लोगों ने शायद अनुभव किया है, अत्यधिक सक्रिय अवस्था में लिम्बिक सिस्टम के कारण होने वाले शारीरिक निर्देश हमारे दिन-प्रतिदिन के कामकाज और विकल्पों में समस्याएं पैदा कर सकते हैं। 

खास बात यह कि जब लिम्बिक सिस्टम पूरी तरह सक्रिय हो तो उसे धीमा करना या विकल्पों पर विचार करना बेहद मुश्किल होता है। तंत्रिका तंत्र से संबंधित एक और परेशानी तनाव से उबरने से जुड़ी है। कोविड के दौरान, लोगों के सामाजिक होने के कई तरीके सीमित थे और अच्छे मौके भी कम थे।

ऐसे में अब जब कोई अवसर आता है, तो कई लोग परिणामों की परवाह किए बिना इसे दोनों हाथों से लपक लेते हैं। हम अपने न्यूरोकैमिस्ट्री से अच्छा महसूस करने के लिए प्रेरित होते हैं, सुखद अनुभवों की तलाश करते हैं और मौके और जोखिम उठाने की हड़बड़ी दिखाते हैं। 

एक और कारक है जो कई युवा, अनुभवहीन चालकों को जोखिम में डालता है। मस्तिष्क का तार्किक, परिणाम-उन्मुख हिस्से (प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स) का आम तौर पर तब तक पूर्ण विकास नहीं होता जब तक मनुष्य की उम्र 25 साल नहीं हो जाती।

विश्व स्तर पर, 5-29 आयु वर्ग के लोगों के लिए सड़क दुर्घटनाएं मौत का प्रमुख कारण हैं। सभी सड़क दुर्घटनाओं में मौतों का लगभग तीन चौथाई मामले (73 प्रतिशत) 25 वर्ष से कम आयु के युवा पुरुषों से जुड़े होते हैं, जो युवा महिलाओं के रूप में सड़क यातायात दुर्घटना में मारे जाने की संभावना से लगभग तीन गुना अधिक हैं। क्या इसका समाधान है।

लिम्बिक प्रतिक्रिया से जुड़े जोखिमों के बारे में जानकारी कैसे रखें। दूसरों को जवाब देने से पहले विचार का अभ्यास जरूर करें- आक्रामक टेक्स्ट या ईमेल भेजने से पहले, किसी अन्य वाहन चालक पर चिल्लाने से पहले, या तेज गति से वाहन चलाने के अनावश्यक जोखिम लेने से पहले कुछ सेकेंड का विचार आपको कई मुश्किल हालातों से बचा सकता है।

ये भी पढे़ं- जयललिता की छठी पुण्यतिथि पर उन्हें याद कर लोगों ने दी श्रद्धांजलि

 

Post Comment

Comment List