चीन के साथ युद्ध 'कोई विकल्प नहीं' : साई इंग वेन

चीन के साथ युद्ध 'कोई विकल्प नहीं' : साई इंग वेन

ताइपे। ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन ने पोप फ्रांसिस को लिखे एक पत्र में कहा है कि चीन के साथ युद्ध कोई विकल्प नहीं है। साई इंग-वेन ने कहा कि चीन के साथ सार्थक बातचीत तभी संभव है जब बीजिंग स्वशासित ताइवान के लोकतंत्र का सम्मान करे। वेटिकन सिटी चीन के बजाय ताइवान के साथ राजनयिक संबंध रखने वाली अंतिम यूरोपीय सरकार है। हालांकि, अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों ने ताइवान के साथ व्यापक अनौपचारिक संबंध बनाए रखते हैं।

चीन के साथ संबंध विकसित करने के वेटिकन के प्रयासों को लेकर ताइवान के नेता असहज हैं। ताइवान की राष्ट्रपति के कार्यालय की ओर से जारी पत्र के मुताबिक उन्होंने यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध, "प्रवासी अनुकूल नीतियों" और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर वेटिकन के रुख के प्रति समर्थन व्यक्त किया है।

वर्ष 1949 में गृह युद्ध के बाद ताइवान और चीन अलग हो गए थे और उनके बीच कोई आधिकारिक संबंध नहीं है लेकिन वे अरबों डॉलर के व्यापार और निवेश से जुड़े हुए हैं। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार नियमित रूप से ताइवान के पास लड़ाकू विमानों और बमवर्षकों विमानों को उड़ाती है ताकि वह अपने रुख को लागू कर सके कि ताइवान चीन के साथ एकजुट होने के लिए बाध्य है।

यह भी पढ़ें- टेक्सास और अन्य अमेरिकी शहरों के आसपास लगे 'मुस्लिम लव जीसस' के होर्डिंग, जानिए पूरा मामला

Post Comment

Comment List