लखनऊ : जीवा हत्याकांड मामले में एसआईटी ने शासन को सौंपी प्रगति रिपोर्ट

लखनऊ : जीवा हत्याकांड मामले में एसआईटी ने शासन को सौंपी प्रगति रिपोर्ट

लखनऊ, अमृत विचार। गैंगस्टर संजीव माहेश्वरी जीवा हत्याकांड की जांच कर रही एसआईटी (विशेष जांच दल) ने बुधवार को शासन को प्रगति रिपोर्ट सौंपी है। इस रिपोर्ट में गैंगेस्टर बदन सिंह बद्दो की भूमिका को रेखांकित करते हुए शूटर के विरुद्ध साक्ष्य जुटाए जाने की सूचना दी गई है। बताया जा रहा है कि पहले से तय सीमा के अलावा और समय मिलने के बावजूद जांच पूरी न कर पाने की विफलता को छुपाने को यह प्रगति रिपोर्ट सौंपी गई है।

लखनऊ जिला और सत्र न्यायालय परिसर में 7 जून को जीवा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस सनसनीखेज वारदात में 18 महीने की एक बच्ची और दो पुलिस वाले भी जख्मी हो गए थे। बाद में वकीलों ने एक हत्याभियुक्त को अदालत परिसर में पकड़ लिया था और बाद में उसे पुलिस को सौंप दिया।

अदालत परिसर में हत्या की इस वारदात ने उप्र में कानून का राज स्थापित करने की सरकार के दावे को तार-तार कर दिया था। लिहाजा शासन ने उसी दिन घटना की जांच को एडीजी मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय एसआईटी गठित कर एक सप्ताह रिपोर्ट देने का निर्देश दिया था। लेकिन तय समय सीमा 14 जून तक जांच पूरी न कर पाने के चलते दो सप्ताह का और समय दिया गया।

बावजूद उसके जांच पूरी नहीं हो पायी है। यह बात दीगर है कि इस मामले में पुलिस दो सप्ताह पहले ही चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। इसमें हत्याकांड की साजिश के बारे में विस्तृत रूप से उल्लेख किया गया है। इसमें गैंगेस्टर बदन सिंह बद्दो को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया है। हार्डकोर अपराधी सुशील मूंछ की भूमिका को भी रेखांकित किया गया है। विवेचना अभी चल रही है, इसमें सुशील मूंछ को आरोपी बनाने की तैयारी है।

यह भी पढ़ें: संजय गांधी अस्पताल का निरस्त पंजीकरण बहाल किया जाए : कांग्रेस

ताजा समाचार