बरेली: धर्मांतरण की सूचना मिलने पर पहुंचे हिंदू संगठन, हंगामा

बरेली: धर्मांतरण की सूचना मिलने पर पहुंचे हिंदू संगठन, हंगामा

बरेली, अमृत विचार। बरेली के सुभाषनगर थाना क्षेत्र में धर्मांतरण का शोर मचने पर दो पक्ष आमने-सामने आ गए। दोनों पक्षों की तरफ से एक-दूसरे पर जान से मारने की धमकी, अभद्रता और गाली-गलौज के साथ ही उनके आराध्यों पर अभद्र टिप्पणियां के साथ जमकर हंगामा हुआ है।

यह भी पढ़ें- बरेली: उत्तराखंड की ओर से आ रही कार अनियंत्रित होकर ट्रक घुसी, तीन दोस्तों की मौत, एक घायल

इस दौरान हिंदूवादी संगठनों के पहुंचने पर सैकड़ों की संख्या में लोग इकट्ठा हो गए और घंटों हंगामा चलता रहा। दोनों ही पक्षों ने एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगाए हैं। वहीं बाद में थाने में भी काफी देर तक हंगामा चलता रहा। फिलहाल पुलिस ने दोनों पक्षों से मिली तहरीर के आधार पर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।

दरअसल, मामला सुभाषनगर थाना क्षेत्र में बंशी नगला की नई बस्ती के भगवान दास, सुनीता, नीतू देवी, सुमन समेत दर्जनों महिलाओं ने पुलिस को दीं दो तहरीरों में बताया कि आज सुबह करीब 11 बजे जब वह पास के एजी चर्च मे प्रार्थना कर रहे थे।

तो केके शंखधार, हिमांशु पटेल के साथ बजरंग दल, हिंदू युवा वाहिनी और गोरक्षा दल के लोगों के साथ चर्च में घुस आए और प्रार्थना को रुकवा कर धार्मिक पुस्तक समेत अन्य ग्रंथों को फाड़ दिया। तहरीर में हिंदूवादी नेताओं पर आधे घंटे में शरीर से खाल उतारने, जान से मारने की धमकी समेत घर में घुसकर मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है।

वहीं उन्होंने तहरीर में बताया कि पिछले करीब 15 सालों से वह चर्च में स्वेच्छा से प्रार्थना कर रहे हैं। उन्होंने अपनी इच्छा से धर्म-परिवर्तन किया था लेकिन हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता प्रार्थना के समय चर्च मे घुस आए, जिन्होंने प्रेयर को रुकवाकर उनके साथ छेड़छाड़ की और गाली-गलौज करते हुए गुंडागर्दी पर उतारू हो गए। साथ ही जबरस्ती कर उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है।

वहीं दूसरे पक्ष में हिंदूवादी नेता हिमांशु पटेल और केके शंखधार द्वारा थाना में दी गई तहरीर में चर्च प्रबंधन पर रुपयों का प्रलोभन देकर हिंदूओं का बड़े पैमाने पर मतांतरण कर धर्म परिवर्तन कराए जाने का आरोप लगाया है। हिंदूवादी पक्ष की तहरीर में कहा गया है कि वह सुबह सिटी श्मशान भूमि के पास बंशी नगला स्थित एक मकान में हिंदुओं के मतांतरण की सूचना पर पहुंचे थे।

तो देखा, वहां धार्मिक पुस्तक समेत अन्य ग्रंथों के माध्यम से सैकड़ों हिंदू महिलाओं और बच्चों का ब्रेनवॉश कर उन्हें ईसाई धर्म की ओर आकर्षित करने का कार्य होता मिला। आरोप है कि जब उन्होंने जानने का प्रयास किया तो मिशनरी से संबधित लोगों द्वारा अभद्रता और गाली-गलौज शुरू कर दी गई।

जब इसका विरोध के.के. शंखधार ने किया तो उनके साथ धक्का-मुक्की और भविष्य में जान से हाथ धोने की धमकी दी गई। वहीं हिंदू धर्म के साथ उनके आराध्यों का भी अपमान किया गया। वहीं उनका कहना है कि बरेली में जो आज हो रहा था कोई नया नहीं है, यहां पिछले छह-सात सालों से मतांतरण का खेल चल रहा है।

वहीं इस मामले पर एसपी सिटी राहुल भाटी ने बताया कि डायल 112 पुलिस को वंशी नगला मोहल्ले के एक मकान में करीब 60-70 व्यक्तियों को एक व्यक्ति द्वारा इसाई धर्म में मतांतरण किए जाने की सूचना प्राप्त हुई थी। जहां स्थानीय पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले का संज्ञान लिया है। वहीं दोनों पक्षों की तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर जांच पड़ताल की जा रही है।

यह भी पढ़ें- बरेली: बिजली के तार चोरी करने वाले तीन अभियुक्त चढ़े पुलिस के हत्थे, एक फरार 

Post Comment

Comment List