देहरादून: भाजपा ने राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने का किया समर्थन

देहरादून: भाजपा ने राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने का किया समर्थन

देहरादून, अमृत विचार। भाजपा ने राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने का समर्थन करते हुए कहा कि वह समलैंगिक विवाह व लिव इन रिलेशनशिप के खिलाफ है। इन दोनों को कानूनी मान्यता नहीं दी जानी चाहिए। पार्टी ने विशेषज्ञ समिति के समक्ष अपना मत प्रस्तुत किया।


पार्टी प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने विशेषज्ञ समिति से कहा कि भाजपा यूसीसी के पक्ष में है और इसे संविधान सम्मत मानती है। किसी भी धर्म, समाज एवं वर्ग में महिलाओं का विवाह, तलाक, संपत्ति आदि सभी विषयों में समान अधिकार होना चाहिए। कहा कि ये अधिकार देश की एकता व अखंडता की रक्षा के मूलभूत सिद्धांत पर आधारित होने चाहिए। पार्टी का मानना है कि नागरिकों के अधिकार तय करते समय देश व प्रदेश की संस्कृति और विरासत को भी ध्यान में रखना चाहिए। 

वहीं वक्ताओं ने कहा कि महिलाओं को संपत्ति में पुरुषों के समान अधिकार हों, उन्हें मायके में बचपन और फिर विवाह के बाद ससुराल में समान अधिकार मिलने चाहिए। इसी तरह तलाक की स्थिति में भी जो अधिकार पुरुषों के हैं, वहीं अधिकार महिलाओं के भी होने चाहिए। इसके अलावा सभी धर्मों के अनुयायियों के अधिकार समान हों, जिससे समाज में परस्पर सम्मान व सौहार्द का वातावरण बना रहे। किसी धर्म के अनुयायियों को ऐसा कोई कार्य करने का अधिकार नहीं होना चाहिए जो अन्य धर्म के लोगों के लिए परेशानी का सबब बने। अवैध धर्मांतरण पर पूरी तरह से रोक के अलावा तलाक या अन्य सामाजिक मामलों में धर्म या परंपरा के नाम पर चल रही कुरीतियां दूर की जानी चाहिए।

ताजा समाचार

Kannauj: SDM के फर्जी हस्ताक्षर से निकलती रही आरोपी की सैलरी...जेल जाने के बाद अब इन पर हो सकती बड़ी कार्रवाई
सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा-पंजाब को शंभू बॉर्डर पर यथास्थिति बनाए रखने का दिया निर्देश
Kannauj Crime: अपहरण कर किशोरी के साथ किया दुष्कर्म...मुकदमे में समझौते का दबाव बनाने से परेशान किशोरी ने दी जान, SI निलंबित
ओपी सिंह हत्याकांड: आरोपियों का हुआ सामाजिक बहिष्कार,गांव में घुसने पर पाबंदी, रोटी-बेटी का संबंध भी तोड़ने का फैसला 
Aligarh News | Aligarh Muslim University में बदमाशों ने Registrar के दो कर्मचारियों को गोली मारी।
हल्द्वानी: रेलवे की जमीन पर हुए अतिक्रमण मामले पर सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई