दिल्ली समेत उत्तर पश्चिम भारत के लोगों को भीषण गर्मी से कब मिलेगी राहत?, जानिए IMD ने क्या कहा?

दिल्ली समेत उत्तर पश्चिम भारत के लोगों को भीषण गर्मी से कब मिलेगी राहत?, जानिए IMD ने क्या कहा?

नई दिल्ली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के प्रमुख मृत्युंजय महापात्र ने सोमवार को कहा कि भीषण गर्मी का सामना कर रहे राष्ट्रीय राजधानी समेत उत्तर पश्चिम भारत के लोगों को 30 मई के बाद भीषण लू से राहत मिल सकती है। आईएमडी के महानिदेशक ने ऑनलाइन प्रेस वार्ता में कहा कि उत्तर पश्चिम भारत के हिस्सों में भीषण लू चल रही है और यह अगले तीन दिनों तक जारी रह सकती है, लेकिन 30 मई से इसकी तीव्रता धीरे-धीरे कम होगी, क्योंकि एक पश्चिमी विक्षोभ आ रहा है। 

उन्होंने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ और अरब सागर से नमी आने के कारण देश के उत्तर पश्चिम और मध्य भागों में गरज के साथ वर्षा होने और पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में बारिश होने की संभावना है, जिससे लोगों को गर्मी से राहत मिल सकती है।

हालांकि, महापात्र ने यह भी कहा कि यह राहत अस्थायी होगी और जून के महीने में दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान समेत भारत के ज्यादातर हिस्सों में अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहने की आशंका है तथा उमस भी बढ़ेगा। 

उनके मुताबिक, दक्षिणी प्रायद्वीप के अनेक हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य से कम रहता है, जबकि उत्तर पश्चिम के सुदूर उत्तरी भाग तथा पूर्व एवं उत्तर पूर्व भारत के कुछ हिस्सों में न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रह सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि जून में राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गुजरात के कुछ हिस्सों और उत्तरी मध्य प्रदेश समेत उत्तर पश्चिम भारत में सामान्य से ज्यादा दिनों तक तेज लू चल सकती है। 

महापात्र ने कहा कि उत्तर पश्चिम भारत में जून के महीने में आम तौर पर तीन दिन लू चलती है, लेकिन इस बार इन इलाकों में दो-चार दिन ज्यादा ऐसी स्थिति बन सकती है यानी इन इलाकों में चार से छह दिन भयंकर लू चलने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि मई के महीने में राजस्थान और गुजरात में नौ से 12 दिन तक लू चली और तापमान 45 से 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। 

आईएमडी प्रमुख के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर, दक्षिणी हरियाणा, दक्षिण पश्चिम उत्तर प्रदेश और पंजाब में पांच से सात दिन-- 17 से 20 मई और 25-26 मई को लू की स्थिति रही तथा पारा 44-48 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। उनके मुताबिक, असम में 25-26 मई को लू की स्थिति देखी गई। महापात्र ने कहा कि मई में दो चरण में लू चली। 

उन्होंने बताया कि भीषण लू का पहला चरण एक से पांच मई तक रहा और यह मुख्यत: पूर्वी भारत और दक्षिणी प्रायद्वीपीय भारत में ही सीमित रहा। उन्होंने कहा कि दूसरा चरण 16 मई से उत्तर पश्चिम भारत में शुरू हुआ और यह अब तक जारी है और अगले तीन दिन यानी 29 मई रह सकता है। 

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Elections 2024: 'BJP ने कांग्रेस को वोट के लिए पैसे दिए...', कोलकाता में रैली के दौरान ममता बनर्जी का बड़ा आरोप

ताजा समाचार

मैं बनारस की जनता को नमस्कार करता हूं.., काशी पहुंचे पीएम मोदी, किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त की जारी
काशीपुर: बीमार होने पर इलाज के लिए तांत्रिक का सहारा लेना एक युवक को पड़ा भारी
Unnao: युवक का शव रख रोड की थी जाम...हंगामा और पुलिस से बदसलूकी पर 18 नामजद सहित 100 पर FIR
अयोध्या: ज्येष्ठ माह के अंतिम मंगलवार को हनुमान मंदिरों में उमड़ी आस्था, जगह-जगह लगे भंडारे
बरेली: ट्रांसफार्मर में लगी आग से मचा हड़कंप, फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने पाया काबू
अयोध्या: प्रोफेसर पति सहित सास और देवर के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज, दो दिन पहले पत्नी का शव फंदे से लटकता मिला था