राजनीतिक दलों के खोखले चुनावी वादों के दूरगामी प्रभाव होंगे: निर्वाचन आयोग

राजनीतिक दलों के खोखले चुनावी वादों के दूरगामी प्रभाव होंगे: निर्वाचन आयोग

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को चुनावी वादों की वित्तीय व्यवहार्यता के बारे में मतदाताओं को प्रामाणिक जानकारी प्रदान करने को लेकर राजनीतिक दलों को पत्र लिखा और इस मुद्दे पर उनके विचार जानने चाहे। ये भी पढ़ें- पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, बिहार में नगर निकाय चुनाव पर लगाई रोक निर्वाचन आयोग ने …

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को चुनावी वादों की वित्तीय व्यवहार्यता के बारे में मतदाताओं को प्रामाणिक जानकारी प्रदान करने को लेकर राजनीतिक दलों को पत्र लिखा और इस मुद्दे पर उनके विचार जानने चाहे।

ये भी पढ़ें- पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, बिहार में नगर निकाय चुनाव पर लगाई रोक

निर्वाचन आयोग ने कहा कि वह चुनावी वादों पर पूर्ण जानकारी ना देने और उसके वित्तीय स्थिरता पर पड़ने वाले अवांछनीय प्रभाव की अनदेखी नहीं कर सकता है क्योंकि खोखले चुनावी वादों के दूरगामी प्रभाव होंगे। राजनीतिक दलों द्वारा किए गए चुनावी वादों की घोषणा संबंधी प्रस्तावित प्रारूप में तथ्यों को तुलना योग्य बनाने वाली जानकारी की प्रकृति में मानकीकरण लाने का प्रयास किया गया है।

प्रस्तावित प्रारूप में वादों के वित्तीय निहितार्थ और वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता की घोषणा करना अनिवार्य है। सुधार के प्रस्ताव के जरिये, निर्वाचन आयोग का मकसद मतदाताओं को घोषणापत्र में चुनावी वादों की वित्तीय व्यवहार्यता के बारे में सूचित करने के साथ ही यह भी अवगत कराना कि क्या वे राज्य या केंद्र सरकार की वित्तीय क्षमता के भीतर हैं या नहीं।

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान जाना चाहते थे RJD सांसद मनोज झा, मोदी सरकार ने कहा- No Way

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement