आज क्या खाया जाए से लेकर बहुत सी बातों में चुनना होता है मुश्किल 

आज क्या खाया जाए से लेकर बहुत सी बातों में चुनना होता है मुश्किल 

विकल्प कैसे पेश किए जाते हैं, कितने विकल्प हैं, उनकी विशेषताओं में कितने अलग विकल्प हैं, हम प्रत्येक विकल्प के बारे में पहले से कितना जानते हैं - यही असमंजस की वजह होती है।

(जेनेके ब्लिजलेवेंस, वरिष्ठ व्याख्याता एक्सपैरिमैंटल मैथड, आरएमआईटी विश्वविद्यालय मेलबर्न (ऑस्ट्रेलिया), 21 नवंबर (द कन्वरसेशन)। दिनभर की व्यस्तता के बाद आपका साथी आपको संदेश देता है- चलो खाने के लिए कुछ ऑर्डर करते हैं, खाना बनाने का मेरा मन नहीं कर रहा है। कुछ राहत महसूस करते हुए, आप अपना सामान्य टेकअवे ऐप खोलते हैं और उपलब्ध कई रेस्तरां और व्यंजनों को स्क्रॉल करना शुरू करते हैं। थाई, पिज़्ज़ा, बर्गर, कोरियाई, लेबनीज़... ओह इसकी डिलीवरी मुफ़्त है! हम्म, लेकिन वे बहुत दूर हैं और मैं भूखा हूँ ... जल्द ही राहत की भावना असमंजस में बदल जाती है और यह तय करने में असमर्थता होती है कि क्या ऑर्डर किया जाए। और आपका साथी भी ज्यादा मददगार नहीं है! जाना पहचाना लग रहा है ना? आपके साथ भी ऐसा ही होता है, इसे च्वाइस ओवरलोड कहा जाता है। यह कभी-कभी निर्णय लेना असंभव बना देता है (जब आप हार मान लेते हैं और घर पर ही कुछ हलका फुलका बनाने का फैसला कर सकते हैं) और आखिरकार हम जो विकल्प चुनते है। 

वह हमें कम संतुष्टि की ओर ले जाते हैं। शुक्र है, विपणन और मनोविज्ञान के विद्वानों ने इस घटना का वर्षों से अध्ययन किया है और आपके जीवन को थोड़ा आसान बनाने के लिए कुछ सुझाव तैयार किए हैं। लेकिन इनपर अमल करने से पहले हमें इन्हें ठीक से समझने की जरूरत है। किसी चीज को चुनना मुश्किल क्यों हो जाता है? रात के खाने के बारे में उपरोक्त परिदृश्य में, विकल्प ही अपने आप में जटिलता बन जाते हैं। 

विकल्प कैसे पेश किए जाते हैं, कितने विकल्प हैं, उनकी विशेषताओं में कितने अलग विकल्प हैं, हम प्रत्येक विकल्प के बारे में पहले से कितना जानते हैं - यही असमंजस की वजह होती है। सबसे बेहतर विकल्प चुनने के लिए बहुत सी चीजें हैं: भोजन, वितरण समय, वितरण लागत, दूरी, सेहत के लिए अच्छा है या बुरा, और इसी तरह की कई बातें। जो पहली नज़र में एक साधारण निर्णय लगता है, जल्द ही काफी जटिल हो जाता है। जब अकेले भोजन की बात आती है तो लोग एक दिन में लगभग 200 विकल्प चुनते हैं, ऐसे में आप दिन के अंत में हमारे मस्तिष्क द्वारा महसूस की जाने वाली थकान को आसानी से समझ सकते हैं।

चॉइस ओवरलोड को कैसे दूर करें
तो एक लंबे दिन के बाद, जब आपके पास कोई ऊर्जा नहीं बची है, उत्तरदायित्व कम है, और संभावित परिणाम मामूली हैं, तो अपनी पसंद को संतुष्ट करने पर विचार करें: विकल्प कार्य को तुरंत दो हिस्सों में बांट लें। केवल दो विकल्पों में से चुनें, बेतरतीब ढंग से चुने गए, या पहले जो दिमाग में आए। उदाहरण के लिए, डिलीवरी ऐप खोलने से पहले, तय करें कि आपको पॉप अप होने वाले पहले दो व्यंजनों में से ही किसी एक को चुनना है। 

आप जो जानते हैं, उसे ही अपनी पसंद बनाए। आदतें तब बनती हैं जब अतीत में मस्तिष्क द्वारा एक विकल्प को बार-बार चुना जाता है और इसका मतलब है कि आपके द्वारा नियमित रूप से चुने जाने के कारण वह विकल्प आपकी पसंद बन जाता है। अपनी पहली पसंद पर टिके रहें। एक बार निर्णय लेने के बाद, अपने निर्णय पर बने रहें।

इसी तरह आप एक घर खरीद रहे होते हैं, तो आप इष्टतम निर्णय लेने के लिए आवश्यक सभी सूचनाओं पर विचार करना चाहते हैं। इससे चॉइस ओवरलोड होने की संभावना है क्योंकि आपका मस्तिष्क सचेत रूप से सभी बिंदुओं को जोड़ने की कोशिश कर रहा है। यदि निर्णय भारी हो रहा है, तो रुकने का प्रयास करें और कुछ देर इस बारे में न सोचने का प्रयास करें। 

जब आप एक अच्छी रात की नींद के बाद वापस आते हैं, तो आपके मस्तिष्क ने अनजाने में सूचना को संसाधित कर लिया होगा और आप अधिक आत्मविश्वास से निर्णय लेने में सक्षम होंगे। कुछ सरल तरकीबों से, यहां तक ​​कि रात के खाने के लिए क्या ऑर्डर करना है, की विलासिता की समस्या को भी समाप्त किया जा सकता है; अब, आपके पास अपने पिज़्ज़ा... या बर्गर के बारे में सोचते समय नेटफ्लिक्स पर क्या देखना है, इस पर सहमत होने के लिए भी कुछ दिमागी जगह बची है। 

ये भी पढ़ें : Kitchen Hacks: ठंड में जरूर खाएं लजीज और हेल्दी मसाला गुड़ के पराठे, जानें आसान Recipe

Related Posts

Post Comment

Comment List