रीवा में भारत की चौथी सबसे बड़ी सुरंग बनना एक विशेष उपलब्धि: शिवराज सिंह चौहान

रीवा में भारत की चौथी सबसे बड़ी सुरंग बनना एक विशेष उपलब्धि: शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कहा कि रीवा में देश की चौथी सबसे बड़ी सुरंग बनाना एक विशेष उपलब्धि है। चौहान ने आज रीवा जिले की इस सुरंग के केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के हाथों लोकार्पण के पूर्व संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि यह सुरंग भारत की सबसे चौड़ी और मध्यप्रदेश की सबसे लंबी सुरंग है। रीवा में भारत की चौथी सबसे बड़ी सुरंग बनना एक विशेष उपलब्धि है।

उन्होंने कहा कि इसके साथ ही 750 मेगावाट क्षमता का एशिया का सबसे बड़ा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट भी रीवा में चल रहा है। सीएम ने कहा कि मोहनिया घाटी को काटकर दो सुरंग बनाई गई है। चुरहट बायपास में 3 -3 लेन की दो टनल बनाई गई है जो आपस में 7 स्थान पर जुड़ी हैं। एक सुरंग में एक तरफ से 3 वाहन एक साथ गुजर सकेंगे। इसे बनाने में लगभग 1000 करोड़ रुपए की लागत आई है।

उन्होंने कहा कि इस परियोजना में एक माइनर ब्रिज, एक ओवर ब्रिज एक एक्वाडक्ट और एक रेलवे ब्रिज के साथ कई छोटे-छोटे पुल पुलियों का निर्माण किया गया है। यातायात को सुगम करने में दोनों के बीच 7 स्थानों पर इंटर पासिंग की व्यवस्था की गई है। यह काम निर्धारित समय से 6 महीने पहले ही पूरा हो गया है। टनल के अंदर सीसीटीवी कैमरे भी लगे हैं। साथ ही पंखे और फायर कंट्रोल सिस्टम है। अत्याधुनिक लाइटिंग की व्यवस्था की गई है। आपातकाल में संपर्क के लिए कॉलिंग सिस्टम की सुविधा भी प्रदान की गई है। बारिश का पानी ना भरे इसलिए दोनों और सुविधा युक्त नालियों का निर्माण किया गया है और कंक्रीट में सीमेंट और मिट्टी को मिलाकर बनाई इस चैनल में पानी छनकर एक कुंड में आएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि रीवा और सीधी की दूरी इससे सात किलोमीटर कम हो जाएगी और वाहनों को मोहनिया घाटी के घुमावदार और कठिन मोड़ और चढ़ाव से मुक्ति मिलेगी। घाटी पार करने में जो 30 या 35 मिनट लगते थे उसमें मात्र 3 से 5 मिनट ही लगेंगे।

Post Comment

Comment List