मुरादाबाद: हंगामा, नोकझोंक के बीच 517 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी

अक्टूबर में पेश होगा पुनरीक्षित बजट, आउटसोर्सिंग से तैनात संविदाकर्मियों की वेतनवृद्धि का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित

मुरादाबाद: हंगामा, नोकझोंक के बीच 517 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी

मुरादाबाद, अमृत विचार। नगर निगम की बोर्ड बैठक में हंगामे व नोकझोंक के बीच महानगर के 70 वार्डों में विकास के लिए 517 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी दी गई। सदन में कुछ पार्षदों के व्यय पक्ष पर आपत्तियों का समाधान करने का भरोसा महापौर विनोद अग्रवाल और नगर आयुक्त संजय चौहान ने दिया। सर्वसम्मति से नगर निगम में आउटसोर्सिंग से तैनात संविदा सफाई और अन्य कर्मचारियों की वेतनवृद्धि का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ।

बोर्ड बैठक में वित्तीय वर्ष 2023-24 के 5 अरब 17 करोड़ 60 लाख रुपये के मूल बजट को कुछ संशोधन के साथ पारित किया। यह पिछले वित्तीय वर्ष के 4 अरब 34 करोड़ 73 लाख रुपये से 84 करोड़ रुपये अधिक है। आउटसोर्सिंग से संविदा पर तैनात सफाई और अन्य कर्मचारियों की वेतन वृद्धि में मनमानी और ढिलाई का मुद्दा पार्षद अनुभव मेहरोत्रा ने उठाया। जिस पर सभी पार्षदों ने समर्थन कर महापौर और नगर आयुक्त को घेरा। नगर आयुक्त ने बताया कि ईपीएफ, ईएसआई को जोड़कर और समस्त कटौतियों के साथ 14,300 रुपये भुगतान होगा। हर कर्मचारी कम से कम 12,500 रुपये पाएगा।

 सदन से सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित हो गया।महानगर में खराब पथ प्रकाश व्यवस्था अक्टूबर के प्रथम सप्ताह तक ठीक कराने की सहमति बनी। भाजपा पार्षद देशरत्न कत्याल के बिना क्रम के बोलने पर कांग्रेस पार्षद नदीम व अन्य ने आपत्ति जताई और सदन में भेदभाव का आरोप लगाकर हंगामा करने लगे। महापौर की अनुमति से देशरत्न कत्याल ने बंदरों और कुत्तों के काटने की घटना बढ़ने पर नगर निगम की ओर से कदम उठाने की मांग की। सीवरेज पाइप लाइन, जर्जर सड़कों पर उन्होंने अधिकारियों को घेरा। वार्ड के सफाई कर्मचारियों की मृत्यु या सेवानिवृत्त होने पर जल्द किसी अन्य की तैनाती करने के लिए कहा। पार्षदों ने उनका ध्वनि मत से समर्थन किया।

बैठक में विधान परिषद सदस्य डा. जयपाल सिंह व्यस्त, गोपाल अंजान, देहात विधानसभा क्षेत्र के विधायक नासिर कुरैशी, नगर निगम कार्यकारिणी के उपाध्यक्ष डा. गौरव श्रीवास्तव के अलावा नगर निगम में उप नेता सुरेंद्र विश्नोई, कांग्रेस पार्षद दल के नेता व नेता विपक्ष अनुभव मेहरोत्रा सहित अन्य सभी पार्षद मौजूद रहे।

बजट में आय पक्ष पर अधिक जोर
मूल बजट में आय पर अधिक जोर दिया गया है। इसमें भवन किराए की मद को 25 लाख से बढ़ाकर 51 लाख रुपये किया गया। नजूल भूमि के किराए से एक लाख, दुकानों के प्रीमियम से कोई आय नहीं होगी। रिक्शा, आटो रिक्शा से साल में एक लाख रुपये पंजीकरण व किराए के रूप में वसूला जाएगा। खोखा लाइसेंस से 16 लाख रुपये की आमदनी निगम की होगी।

कम हो रहा केंद्रीय अंश का हिस्सा
नगर आयुक्त संजय चौहान ने कहा कि नगर निगम को अपने स्रोतों से आय बढ़ानी होगी। क्योंकि 15वें वित्त में केंद्र की ओर से मिलने वाली धनराशि पहले 500 करोड़ रुपये थी जिसमें से 300 करोड़ रुपये अनटाइड फंड में हो गया। अर्थात केंद्र की मदद कम हो रही है। ऐसे में आवश्यक करों व दरों का पुनरीक्षण जरूरी हो गया है। नजूल भूमि के किराए में पिछले वित्तीय वर्ष में 26 लाख रुपये किराए के रूप में वसूलने का लक्ष्य था। जिसे नगर आयुक्त ने बढ़ाकर 50 लाख रुपये कर दिया। बताया कि स्मार्ट सिटी के भवन सहित अन्य कई संपत्तियों से किराए की वसूली बढ़ेगी।

यह है व्यय के मुख्य बिंदु
बजट में व्यय के बिंदुओं में स्थायी सफाई कर्मचारियों के वेतन मद में 50 करोड़ और आउटसोर्सिंग व संविदा पर तैनात कर्मियों के लिए 39 करोड़ रुपये का व्यय वेतन मद में है। पार्क के रखरखाव में 1.40 करोड़ रुपये खर्च होंगे। सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से आउटसोर्सिंग में 30 करोड़ रुपये व्यय होंगे।

पिछली बैठक में हंगामे को नगर आयुक्त ने माना शर्मनाक, कहा घटना असंसदीय
मुरादाबाद। नगर निगम बोर्ड की बैठक में विधान परिषद सदस्य डॉ. जयपाल सिंह व्यस्त ने सदन में पारस्परिक सद्भाव बनाए रखने, बिजली से संबंधित स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत महानगर में कराए जा रहे कार्य में पूरा सहयोग करने और पार्षदों के साथ अलग से बैठक करने की बात कही। विधान परिषद सदस्य डा. जयपाल सिंह ने निगम के अधिकारियों से पार्षदों की ओर से उठाए गए जनहित के विषयों काे समय से निस्तारित कराने के लिए कहा।

सदन में उप नेता सुरेंद्र विश्नोई ने पिछली बैठक में हंगामे में दोषियों पर क्या कार्रवाई हुई इसकी जानकारी नगर आयुक्त से मांगी। नगर आयुक्त संजय चौहान ने बताया कि कई प्रक्रिया के बाद सकारात्मक पटाक्षेप हुआ लेकिन, घटना असंसदीय थी। इसकी पुनरावृत्ति न हो इसका पूरा प्रयास रहेगा। कांग्रेस पार्षद नदीम ने एमएलसी डा. जयपाल सिंह का ध्यान पीपलसाना में हाईटेंशन लाइन गिरने से मवेशियों के मरने के मामले में कदम उठाने का अनुरोध किया। इस पर एमएलसी ने मुआवजा दिलाने का भरोसा दिलाया। पार्षद डा. गौरव श्रीवास्तव ने जन्म मृत्यु प्रमाणपत्रों में एक वर्ष से ऊपर के प्रमाणपत्रों को एसडीएम के पास भेजा जा रहा है। इसे समाप्त करने की मांग की। 21 दिन के भीतर वाले प्रमाणपत्रों की जांच कराई जाती है जो उचित नहीं है।

वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. संजीव बेलवाल ने बताया कि ऐसे आवेदन की जांच आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा से यदि जन्म मृत्यु की रिपोर्ट देने पर सफाई कर्मचारी के रिपोर्ट की जरूरत नहीं है। हास्पिटल में जन्म या मृत्यु प्रमाणपत्र में सत्यापन में दिक्कत नहीं है। केवल घरों में जन्म आदि की स्थिति में एएनएम, आंगनबाड़ी, सफाई निरीक्षक की सत्यापन रिपोर्ट जरूरी है।

100 तो दूर 25 लाइटें भी नहीं लगी
सपा की वरिष्ठ पार्षद शीरीगुल ने हर वार्ड में 100-100 स्ट्रीट लाइटें लगवाने के सवाल पर कहा कि महापौर ने 25 लाइटें लगवाने का आश्वासन दिया था लेकिन, एक भी नहीं लगी। महापौर के निर्देश पर पथ प्रकाश अनुभाग प्रभारी अशोक ने बताया कि लाइटें आ गई हैं अक्टूबर के प्रथम सप्ताह तक लग जाएंगी।

अधिकारी का सीयूजी नंबर बंद मिलने पर एमएलसी नाराज
मुरादाबाद। विधान परिषद सदस्य गोपाल अंजान ने उनके द्वारा फोन करने पर नगर निगम के एक अधिकारी का सीयूजी मोबाइल नंबर बंद होने पर नाराजगी जताई। कहा यह अव्यवस्था और लापरवाही है। ऐसे अधिकारी को चेतावनी दी जानी चाहिए।

सपा विधायक ने लगाया भेदभाव का आरोप

मुरादाबाद। सपा के देहात विधायक नासिर कुरैशी ने कहा कि उनकी विधानसभा में नगर निगम के 27 वार्ड होने और इसमें काम कराने में भेदभाव का आरोप लगाया। उन्होंने वार्ड 67 में झब्बू के नाले में गंदगी से नागरिकों की परेशानी बताकर सदन का ध्यान खींचा।

वार्ड 56 में दीवान की बाजार क्षेत्र में टूटी सड़कों को ठीक कराने, वार्ड 39 के लालबाग में गली की सड़क को बनवाने की मांग रखी। महापौर ने थोड़ा है थोड़े की जरूरत है कहकर देहात विधायक से अपनी निधि से नगर निगम क्षेत्र में विकास कराने के लिए एक करोड़ रुपये देने का आग्रह कर उन्हें घेरा। कहा कि यदि विधायक सहयोग नहीं करेंगे तब भी नगर निगम प्रशासन सारे काम कराएगा। कांग्रेस पार्षद नदीम ने सपा के देहात विधायक के द्वारा बजट न होने के बयान पर शर्मनाक स्थिति बताई। जिस पर महापौर ने अशोभनीय शब्द प्रयोग करने से रोका। कहा बात में मर्यादा का हर सदस्य ध्यान रखें।

बारिश में जलभराव पर अधिकारियों को घेरा

सपा और कांग्रेस के पार्षदों ने पिछले दिनों मूसलाधार बारिश में महानगर के जलमग्न होने की चर्चा कर जलनिकासी और नाला सफाई पर सवाल उठाया। वहीं पार्षदों ने एक स्वर से अपना प्रतिमाह भत्ता 1500 रुपये से बढ़ाकर 5000 रुपये करने की मांग की। उन्होंने कहा कि शासन को पार्षदों का भत्ता बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा जाएगा। पार्षद रुचि चौधरी ने देश के उन नगर निगमों का भ्रमण कराने की मांग की जहां के विकास कार्य को देखकर उसके अनुरूप कार्य यहां कराए जा सकें। उनकी मांग का अन्य पार्षदों ने समर्थन किया।

सफाई कर्मचारियों की बढ़ाई जाए संख्या
भाजपा पार्षद रुचि चौधरी ने नटबाबा मंदिर के पीछे घाट बनाने के पिछली बैठकों में प्रस्ताव पर महापौर से उसकी स्थिति पर जवाब मांगा। बताया कि 15-20 लाख रुपये खर्च हो सकता है।

नगर आयुक्त ने बताया कि कुल 35 लाख का एस्टीमेट दो भाग में बना है। 15 लाख रुपये का बजट का एस्टीमेट स्वीकार कर दिया गया है। इसमें सिंचाई विभाग की अनापत्ति प्रमाणपत्र की जरूरत है। इसके लिए काम चल रहा है, अनापत्ति मिलते ही काम शुरू कराएंगे। पार्षद ने पथ प्रकाश व्यवस्था ठीक कराने की मांग की। उन्होंने अपने वार्ड के सफाई कर्मचारी की सेवानिवृत्ति और मृत्यु होने के बाद खाली पद पर तैनाती करने की मांग की।

कांग्रेस पार्षद अनुभव मेहरोत्रा ने सफाई कर्मचारियों की संख्या वार्डों में बढ़ाने की मांग रखी। महापौर ने आउटसोर्सिंग से तैनात सफाई कर्मचारियों की सूची मांगी। अपर नगर आयुक्त अतुल कुमार ने अक्टूबर प्रथम तक सफाई कर्मचारियों की अपडेट सूची उपलब्ध कराने की बात कही। अनुभव मेहरोत्रा ने जन्म मृत्यु प्रमाणपत्र बनवाने में हीलाहवाली खत्म करने की बात कही।

आज से चेक होगी सफाई कर्मियों की उपस्थिति
नगर आयुक्त ने कहा कि गुरुवार सुबह से सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति अभियान चलाकर करें। जो अनुपस्थित हों उन्हें हटा दें। कहा कि नई कंपनी अब 50 वार्ड में अत्याधुनिक संसाधनों से घरों से कूड़ा उठान करेगी।

हर वार्ड में स्वीकृत हो 10-10 लाख रुपये के कार्य
अनुभव मेहरोत्रा ने कहा कि मरम्मत और अन्य कार्य के लिए हर पार्षद के वार्ड के लिए 10-10 लाख रुपये का काम स्वीकृत करें। जिससे छह महीने तक पार्षदों को काम के लिए भटकना न पड़े। नगर आयुक्त ने पार्षदों से मरम्मत कार्य की सूची मांगी। जिससे अक्टूबर में इस कार्य को कराने की बात कही।

चूहों के खोदे गए सड़कों की जांच करेगी समिति
बोर्ड की पिछली बैठक में देहात विधायक के द्वारा चूहों के द्वारा कई सड़कों को खोखला कर देने के प्रस्ताव पर नगर आयुक्त ने बताया कि चूहों द्वारा भूड़े के चौराहे, मंडी चौक के पास की सड़कों को खोखला करने की जांच बाहर की विशेषज्ञ समिति को टेंडर के माध्यम से कराएंगे।

ये भी पढ़ें:- मुरादाबाद: खुद संभाल नहीं पा रहे डेंगू संक्रमण, तापमान कम होने का इंतजार

Post Comment

Comment List

ताजा समाचार

मुरादाबाद: सुखदेव गोगामेड़ी की हत्या से क्षत्रिय समाज में आक्रोश, बोले- आरोपियों का हो एनकाउंटर
बरेली: बच्चों की सुरक्षा के लिए स्कूली वाहनों में मानकों का रखें ख्याल- डीएम
लखनऊ: होमगार्ड स्थापना दिवस पर रैतिक परेड का आयोजन, बोले कारागार मंत्री- बखूबी ड्यूटी निभा रहे जवान
अयोध्या: राम मंदिर उद्घाटन को तैयार, मस्जिद-ए-अयोध्या का अभी नक्शा ही नहीं, जानिये कहां फंसा हैं पेच?
बरेली: नन्हें लंगड़ा पर पिट एनडीपीएस एक्ट में कार्रवाई, आरोपी के खिलाफ दर्ज हैं कई मुकदमे
अयोध्या: प्रधानमंत्री मोदी उतारेंगे रामलला की पहली आरती, प्राण प्रतिष्ठा में 150 वैदिक आचार्य करेंगे अनुष्ठान

Advertisement