दुबग्गा मंडी की यही कहानी... कीचड़, गंदगी और गंदा पानी

  रविवार-सोमवार रात हुई मसूलाधार बारिश ने खोली सब्जी मंडी की व्यवस्थाओं की पोल

दुबग्गा मंडी की यही कहानी... कीचड़, गंदगी और गंदा पानी

लखनऊ/ठाकुरगंज, अमृत विचार। मानूसन पूरी तरह से सक्रिय होने से राजधानी में मूसलाधार बारिश हो रही है। रविवार रात से सोमवार सुबह तक हुई बारिश से दुबग्गा स्थित नवीन सब्जी मंडी में बरसात का पानी जाम हो गया। इससे सब्जी कारोबारियों और ग्राहकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, बारिश में सब्जियों के सड़ने की दुर्गंध भी मंडी में आने वाले ग्राहकों को परेशान कर रही है। सालों से यह समस्या बनी हुई है, कि जलभराव से लोगों का पैदल निकलना मुश्किल हो रहा है। सोमवार को लखनऊ में पारे में 3.7 डिग्री उछाल के साथ अधिकतम तापमान 34.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं 0.9 डिग्री बढ़ोत्तरी के साथ न्यूनतम तापमान में भी 25.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

मंडी की हालत

 दुबग्गा फल सब्जी व्यापारी समिति के महामंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि बारिश के बाद थोक सब्जी मंडी फिर से गदें नाले में तब्दील हो गई। बताया कि जल भराव की स्थिति का आलम यह था कि दुकानों के अंदर और सड़कों पर तीन-तीन चार-चार इंच पानी भर गया। बताया कि पिछले साल ही मंडी परिषद ने एक बड़ी रकम दुबग्गा मंडी के जल भराव के निकासी के लिए खर्च की गई थी। बावजूद इसके समस्या जस की तस है। दुबग्गा मंडी यह जल भराव की स्थिति विगत 5 सालों से झेल रही है, अभी तक वैकल्पिक व्यवस्था से ही जल भराव की स्थिति को नियंत्रित किया जाता रहा है । स्थाई तौर पर इसकी व्यवस्था करने में मंडी प्रशासन पूरी तरह से असफल रहे यहां के कारोबारी सिर्फ टैक्स देने की मशीन ही बनकर रह गए हैं।

मंडी में गंदगी

वहीं, मंडी इस्पेक्टर एके दुबे का कहना है कि मंडी कारोबारी हर वर्ष टैक्स देते हैं, ताकि मौसम की मार का असर उन पर पड़े। बावजूद  इसके कुछ सुविधाओं के अभाव में मंडी परिसर के व्यापारी बेहद परेशान रहते हैं। बारिश आते ही परिसर में तालाब जैसा पानी भर जाता है जिससे सब्जी व्यापारियों एवं किसानों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। मंडी प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है और जनप्रतिनिधि तमाशा देख रहे हैं।

दुबग्गा सब्जी मंडी

पैदल चलना भी हो रहा दूभर

 आढ़ती मो. रिजवान ने बताया कि मंडी में पानी भरने से काफी दिक्कतें रही है। इससे कामकाज भी प्रभावित हो रहा है। पानी भरे होने से हर तरह गंदगी रहती है। पैदल चलना भी दूभर हो जाता है। सब्जी विक्रेता रामसेवक ने बताया कि अक्सर बरसात के बाद यहां पानी भर जाता है। ग्राहक सामान लेने के लिए कम आते है। अगर जलभराव की समस्या खत्म हो जाए, तो काम पहले की तरह चलने लगेगा। मो.  सुलेमान का कहना है कि पानी भरा होने से गंदगी दुर्गंध रहती है। इससे कामकाज भी प्रभावित हो चुका है। सब्जी विक्रेता मोहम्मद खादिल ने बताया कि जलभराव के चलते पानी में मच्छर पनपने लगे हैं। बीमारियों के फैलने की आशंका बनी है। पानी की समस्या से जल भी निजात मिलनी चाहिए। महामंत्री शाहनवाज हुसैन का कहना है कि मंडी में जलभराव की समस्या का जल्द से जल्द निस्तारण कराना चाहिए ताकि,मंडी में व्यापारियों को किसी भी प्रकार की समस्या हो।  

यह भी पढ़ें:- बारिश के बाद थम गई गाड़ियों की रफ्तार, प्रमुख मार्गों में रेंगते रहे वाहन

ताजा समाचार

यह “कुर्सी बचाओ” बजट है.., विपक्ष ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- किसानों को छल रही सरकार
बरेली: पहाड़ों पर मौज मस्ती लिए बाइक चोरी करने का शौक...2 गिरफ्तार, सिर्फ 5 हजार में बेच देते थे बाइक
Supreme और High Court के न्यायाधीशों की सेवानिवृति उम्र बढ़ाने का कोई विचार नहीं: सरकार 
Kanpur: पांच वर्ष तक के बच्चों को निमोनिया से बचाव के लिए चलेगा 'सांस' अभियान; सौ से अधिक डॉक्टरों और स्टाफ नर्सों को मिलेगा प्रशिक्षण
Video: हरदोई में खेल प्रेमियों ने निकाली मशाल यात्रा, भारत की जीत के लिए की प्रार्थना 
काशीपुर: ट्यूशन के लिए निकले छात्र की नदी में डूबने से मौत