गोंडा : दोबारा पोस्टमार्टम के लिए पुलिस ने चिता से उठवाया शव, जानें क्या है मामला 

गोंडा : दोबारा पोस्टमार्टम के लिए पुलिस ने चिता से उठवाया शव, जानें क्या है मामला 

करनैलगंज/ गोंडा, अमृत विचार। संदिग्ध अवस्था में एक युवक की मौत हो जाने के बाद शव का पोस्टमार्टम कराकर सरयू घाट पर अंतिम संस्कार करने पहुंचे परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में थे उसी बीच सरयू घाट पर पहुंची भारी संख्या में पुलिस ने शव को चिता से जबरन उठा ले गई। जबकि परिजन इसका विरोध करते रहे। 

मृतक प्रताप बहादुर उर्फ ननके 33 वर्ष मूल निवासी कपूरपुर थाना करनैलगंज के सगे भाई रामनरेश का कहना है कि उसका भाई प्रताप बहादुर गोंडा कोतवाली नगर के जोगी वीर बभनी कानूनगो में नेवासा पर रहते थे और उनके घर के अगल-बगल रहने वाले कुछ लोग लगातार इसका विरोध करते थे। आए दिन उसके साथ मारपीट होती थी। सोमवार की शाम करीब आधा लोगों ने उसके भाई के साथ मारपीट किया और उसके ही कमरे में ले जाकर फंदे पर लटका दिया। इसको प्रताप बहादुर की बेटी प्रिया एवं उनकी पत्नी ने देखा। जिसकी शिकायत भी की गई। मगर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं किया बल्कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 

मंगलवार शाम 4 बजे शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सैकड़ो की संख्या में लोग उसका अंतिम संस्कार करने के लिए शाम करीब 6 बजे सरयू घाट करनैलगंज पहुंचे। इस बीच पुलिस बल वहां पहुंचा। जिसमें नगर कोतवाल राजेश कुमार सिंह, करनैलगंज कोतवाल हेमंत कुमार गौड़ भारी पुलिस बल के साथ पहुंचकर शव को दोबारा पोस्टमार्टम कराने के लिए कहने लगे। परिजनों ने इसका विरोध किया फिर भी शव को चिता से उठाकर एक वाहन पर रख लिया और लेकर चले गए। जबकि चिता पूरी तरह बनाई जा चुकी थी और शव को चिता पर रखकर मुखाग्नि देने की तैयारी थी। रामनरेश का कहना है कि उसके भाई के साथ हुई घटना को मृतक की लड़की बयान दे रही है। करनैलगंज कोतवाल हेमंत कुमार गौड़ का कहना है कि पोस्टमार्टम व रिपोर्ट सही न होने के कारण शव को दोबारा पोस्टमार्टम कराने के लिए भिजवाया गया है।

ये भी पढ़ें -स्वामी प्रसाद की पागल कुत्ते से हुई तुलना, विवादित बयान पर योगी के मंत्री और विधायक ने साधा निशाना

Online Jobs Apply