प्रयागराज: नए शस्त्र के साथ शुरु होगी नैनी की जिला जेल, अब बस रायफल और पिस्टल का इंतजार, जानें खूबियां

प्रयागराज: नए शस्त्र के साथ शुरु होगी नैनी की जिला जेल, अब बस रायफल और पिस्टल का इंतजार, जानें खूबियां

प्रयागराज। क्षमता से अधिक कैदियों का बोझ झेल रही प्रयागराज की सेंट्रल जेल नैनी को अब जल्द ही राहत मिलने वाली है। नैनी इलाके में ₹173 करोड़ की लागत से जिला कारागार का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। इसमें दिसंबर के महीने से बंदियों को शिफ्ट किया जाना है। इसको लेकर जेल के अधिकारियों ने पूरी तैयारी कर ली है। अब इंतजार है तो सिर्फ शस्त्र का। 

शस्त्र के आदेश आते ही सेंट्रल जेल से जिला जेल में बंदियों को शिफ्ट कर दिया जायेगा। मुख्यालय से आने वाले शस्त्र के आदेश का अधिकारी इंतजार कर रहे है। केंद्रीय कारागार नैनी में बंद क्षमता से अधिक बंदियों को अलग करने के लिए प्रदेश सरकार ने प्रयागराज के नैनी इलाके में जिला जेल को तैयार कराया है। 

इस जिला जेल में 2800 बंदियों को रखने की क्षमता है। जो प्रदेश की किसी भी जिला जेल से अधिक है। जेल को पूरी तरह से तैयार करा दिया गया है, लेकिन बंदियों को अभी शिफ्ट नही किया गया है। दिसंबर माह में बंदियों को शिफ्ट करने की तैयारी है। जिला जेल में शस्त्र और बंदीरक्षक न होने के कारण अभी बंदियों को शिफ्ट करने में परेशानियां आ रही है। 

जिला जेल में 61 बंदी रक्षको को लगाया जाना है। जिसके लिए मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। इसके अतिरिक्त शस्त्रों की मांग का प्रस्ताव भी भेजा गया है। जिसमें 20 रायफल और चार नाइन एम एम की पिस्टल के लिए पत्र भेजा गया है। मुख्यालय का आदेश आना बाकी है। जिला जेल बनकर तैयार हो चुकी है। जेल में बंदियों को शिफ्ट करने के लिए सिर्फ शस्त्र का इंतजार किया जा रहा है। 

शस्त्र के आदेश आंव के बाद तत्काल बंदियों को शिफ्ट कर दिया जायेगा। जिला जेल प्रदेश की सबसे हाईटेक सुविधाओं और सुरक्षा वाली जेल होगी। जिला जेल में जल संचयन के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग बनाया गया है। इसके अलावा जेल के अन्दर ही सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी बनकर तैयार हो चुका है। जेल का निर्माण करा रही संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजर आर एस रिजवी के मुताबिक जेल में महिला बंदियों के बच्चों के लालन-पालन के लिए एक क्रेच भी बनाया गया है। सम्पूर्ण जिला जेल परिसर सर्विलांस सिस्टम और सीसीटीवी की निगरानी में रहेगा। 

173 करोड़ 33 लाख की लागत से बनी है जिला जेल

जिला कारागार का निर्माण उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड ने कराया है। जेल का निर्माण करा रही संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजर आर एस रिजवी के मुताबिक़ इस जेल में ₹173 करोड़ 33 लाख की लागत आई है। यह जिला जेल 65 एकड़ क्षेत्रफल में बनायी गई है। जेल में दो सर्किल , 18 बैरक, 2 क्वारेंटाइन सेल, एक महिला बैरक और एक जुवेनाइल बैरक का निर्माण किया गया है। बैरक को दो मंजिला आकार दिया गया है। इस जिला जेल में दो हाई सिक्योरिटी बैरक भी हैं, जिसमें 12 बंदियों को रखा जा सकता है।

सेंट्रल में में रहेंगे सजायाफ्ता कैदी

सेंट्रल जेल नैनी की क्षमता 2060 कैदियों के रहने की है। इस जेल में 4596 कैदी व बंदी बंद हैं।  जिला जेल प्रयागराज में अभी केवल विचाराधीन बंदियों को ही रखा जाएगा। जिनकी सेंट्रल नैनी जेल में संख्या 2870 है। जिला जेल में  दो डिप्टी जेलर, एक बाबू, 26 सिपाही की तैनाती की गयी है। 

सेंट्रल जेल में बंद बंदियों को जल्दी ही जिला जेल में शिफ्ट किया जायेगा। जिला जेल में शस्त्र और सिपाहियों की कमी है। जिसके लिए मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। जल्दी ही आदेश आएगा। शस्त्र आने के बाद जिला जेल में बंदियों को शिफ्ट कर दिया जाएगा। बिना शस्त्र के बंदियों की सुरक्षा नही हो सकती है।

                                                                                                      रंग बहादुर पटेल, वरिष्ठ जेल अधीक्षक

यह भी पढ़ें: बहराइच: रंजिश में पिता-पुत्र पर जानलेवा हमला, दोनों जिला अस्पताल रेफर, हालत गंभीर

FOOTER:
Online Jobs Apply