बरेली: मौलाना तौकीर रजा खां के बंद का आह्वान, आम मुस्लिम कारोबारियों में सुगबुगाहट

बरेली: मौलाना तौकीर रजा खां के बंद का आह्वान, आम मुस्लिम कारोबारियों में सुगबुगाहट

बरेली, अमृत विचार : ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में पूजा की अनुमति दिए जाने के खिलाफ आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा खां के जेल भरो आंदोलन के एलान के बाद शहर का माहौल गरमाने लगा है। प्रशासन की ओर से बगैर अनुमति के आंदोलन न होने देने की मंशा जताने के बाद भी आईएमसी की तैयारियां जारी हैं। दूसरी ओर प्रशासन ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

मौलाना तौकीर ने शुक्रवार को नमाज के बाद इस्लामिया कॉलेज ग्राउंड में इकट्ठे होकर कलेक्ट्रेट तक पैदल मार्च कर सामूहिक गिरफ्तारी देने का एलान किया है। रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर मौलाना ने साफ किया था कि यह आंदोलन ज्ञानवापी में पूजा की अनुमति देने के साथ मदरसों और मजारों में तोड़फोड़ की कार्रवाई के भी विरोध में है।

ये भी पढे़ं- मौलाना तौकीर रजा ने आज दिल्ली में मुस्लिम राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई, बरेली में पुलिस-प्रशासन अलर्ट

बाद में उन्होंने मुफ्ती सलमान अजहरी की गिरफ्तारी का मुद्दा भी अपने एजेंडे में शामिल कर लिया। मौलाना तौकीर की ओर से मुस्लिम कारोबारियों से बाजार बंद का भी आह्वान किया है। संपर्क अभियान के साथ इसकी भी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

उधर, पुलिस की ओर से मंगलवार को इस्लामिया कॉलेज प्रबंधन को नोटिस जारी किया गया था कि मौलाना ने अपने कार्यक्रम के लिए प्रशासन से अनुमति नहीं ली है, इसलिए उन्हें इस्लामिया ग्राउंड पर कार्यक्रम करने की अनुमति न दी जाए। प्रशासन की मंशा साफ होने के बाद भी बुधवार तक आईएमसी की ओर से तैयारियां चलती रहीं। उधर, मुस्लिम बहुल सैलानी बाजार के भी ज्यादातर कारोबारियों ने मौलाना के फैसले का समर्थन किया है।

मस्जिदों से बांटे गए पर्चे, प्रशासन की आपत्ति पर आईएमसी ने अपना हाथ होने से किया इन्कार: आईएमसी के नाम से शहर की कई मस्जिदों में पर्चे भी बांटे गए हैं जिनमें मुसलमानों से भारी संख्या में शुक्रवार को इस्लामिया ग्राउंड पर पहुंचने की अपील की गई है। प्रशासन की ओर से बगैर कार्यक्रम की अनुमति लिए पर्चे बंटवाए जाने पर आपत्ति किए जाने के बाद आईएमसी ने पर्चे बंटवाने से इन्कार कर दिया है।

पार्टी के मीडिया प्रभारी मुनीर इदरीसी ने बताया कि पार्टी ने आधिकारिक तौर पर ऐसा कोई पर्चा नहीं छपवाया है। हालांकि उन्होंने इन पर्चों के बारे में पता किया है। उनमें कोई गलत बात नहीं लिखी है और वह उसका समर्थन भी करते हैं।

खानदान के दूसरे सदस्यों ने भी किया मौलाना तौकीर का समर्थन: मौलाना तौकीर रजा के जेल भरो आंदोलन के एलान का आला हजरत खानदान के दूसरे सदस्यों ने भी समर्थन शुरू कर दिया है। खानदान के मौलाना कैफ और सिराज मियां उन्हें समर्थन देने का एलान किया है।

दरगाह उस्ताद-ए-जमन ट्रस्ट के मौलाना कैफ रजा ने कहा कि मुसलमानों को तौकीर मियां के जेल भरो आंदोलन में शामिल होकर अपनी बेदारी का सुबूत पेश करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुसलमान संविधान की रक्षा के लिए शांतिपूर्ण और संवैधानिक दायरे में रहते हुए ज्यादा से ज्यादा संख्या में इस्लामिया ग्राउंड पहुंचें। अन्याय का विरोध करना प्रत्येक भारतीय का मौलिक अधिकार है और इसकी इजाजत हमारा संविधान हमें देता है।

उन्होंने कहा कि आज मस्जिदें और मजार महफूज नहीं रह गई हैं। उलमा की बेवजह गिरफ्तारियां की जा रही हैं जिससे देश का माहौल खराब हो रहा है। पुलिस-प्रशासन और न्याय व्यवस्था इसलिए बनाई गई है ताकि किसी के अधिकारों का हनन न हो लेकिन हालात इसके उलट हैं।

नबीर-ए-आला हजरत सिराज रजा खां नूरी ने भी लोगों से अपील की है कि शुक्रवार को पूरी शांति के साथ देश की अखंडता और मस्जिदों-मदरसों को बचाने के लिए वे इस्लामिया मैदान पहुंचें और आईएमसी प्रमुख की आवाज को मजबूती दें।

ये भी पढ़ें - बरेली: लुईस खुर्शीद समेत दो के विरुद्ध गैर जमानती वारंट जारी, दिव्यांग उपकरण वितरण को मिले 71 लाख रुपये गबन का मामला

ताजा समाचार

बहराइच: लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को स्कूल में प्रवेश करने से रोका, प्रधानाचार्य ने जारी किया तुगलकी फरमान
'OTT मंचों पर प्रतिबंध लगाने के लिए सरकार के पास जाएं', याचिकाकर्ता से सुप्रीम कोर्ट ने कहा
मुरादाबाद: वोटिंग में बुजुर्गों और दिव्यांगों को न हो दिक्कत, पोलिंग बथों पर व्हीलचेयर की व्यवस्था
यूएई में रिकॉर्ड तोड़ बारिश, भारतीय दूतावास ने भारतीय नागरिकों को गैर-जरूरी यात्रा से बचने की दी सलाह 
विकसित राष्ट्र के लिए मोदी को फिर बनाएं प्रधानमंत्री: खब्बू तिवरी
हल्द्वानी: जनता जागरूक है... भ्रामक बातों, विज्ञापनों और भाषणों में नहीं आने वाली- कांग्रेस