Income Tax: इनकम टैक्स रिटर्न भरने से पहले जान लें नियम, कौन सा तरीका है आपके लिए बेहतर

Income Tax: इनकम टैक्स रिटर्न भरने से पहले जान लें नियम, कौन सा तरीका है आपके लिए बेहतर

लखनऊ। आयकर विभाग में वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए आयकर रिटर्न (आईटीआर) भरने की सुविधा प्रारंभ कर दी है। ऐसे में टैक्स पेयर ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों ही माध्यम से फॉर्म सबमिट कर सकते हैं। आयकर रिटर्न भरते समय ध्यान देने वाली बात यह है कि करदाता को नई या पुरानी कर व्यवस्था में से किसी एक को चुनना होगा। इनकम टैक्स एक्सपर्ट के अनुसार दोनों के अपने-अपने फायदे व नुकसान है करदाता को अपनी जरूरत और निवेश के आधार पर आईटीआर दाखिल करने की व्यवस्था को चुनना चाहिए।

आयकर कानून के अनुसार नई कर व्यवस्था 

डिफॉल्ट व्यवस्था है यानी करदाता के लिए यह पहले से ही लागू है। इसका मतलब है कि करदाता को हर साल कर स्लैब का चुनाव करना होगा, यदि कोई वेतन भोगी करदाता पुरानी व्यवस्था को चाहता है तो उसे नए वित्त वर्ष की शुरुआत में अपने नियोक्ता को इस संबंध में सूचित करना होगा।

यदि वह ऐसा नहीं करता है तो वह अपने आप नहीं कर व्यवस्था में आ जाएगा और इसके तहत तय आयकर स्लैप के आधार पर उसके वेतन से आयकर कट जाएगा। वित्तीय वर्ष 2024-25 में भुगतान किए गए अतिरिक्त कर के लिए आयकर रिफंड का दावा करने के लिए उन्हें अगले वित्तीय वर्ष तक इंतजार करना होगा।

किसके लिए कौन सी व्यवस्था बेहतर

कर विशेषज्ञों का कहना है कि अपनी निवेश जरूरत के हिसाब से करदाता को सही व्यवस्था का चुनाव करना चाहिए। अगर करदाता आयकर की धारा 80c या 80d के तहत निवेश करते हैं या होम लोन है या बच्चे स्कूल कॉलेज में पढ़ते हैं तो पुरानी कर व्यवस्था के अनुसार रिटर्न दाखिल करना चाहिए। 

वहीं, अगर किसी भी प्रकार का निवेश या बचत नहीं करते हैं तो नई व्यवस्था के अनुसार रिटर्न दाखिल कर सकते हैं। नई व्यवस्था में इस तरह की कोई छूट नहीं मिलती है। कर विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि अगर किसी की आय 10 लाख से ज्यादा है तो बेहतर होगा कि अभी से निवेश शुरू कर दें ताकि आयकर बचाया जा सके और यह निवेश भविष्य में भी काम आ जाएगा।

कर छूट में बड़ा अंतर

पुरानी और नई आयकर व्यवस्था के बीच मुख्य अंतर इसके तहत प्राप्त कर छूट और कटौती से है। पुरानी व्यवस्था के तहत करदाता पर्याप्त कटौती का दावा कर सकते हैं। जिसमें मानक कटौती के साथ धारा 80सी धारा 80डी और धारा 80 टीटीए के मैं कर छूट शामिल है। पुरानी कर व्यवस्था में एक वेतन भोगी व्यक्ति कल 2.5 लाख रुपए की कटौती का दावा कर सकता है। इसके विपरीत नई व्यवस्था चुन्ने वाले करदाता को केवल ₹50000 की कर कटौती का ही लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़ें:-हिंदू शादियों के लिए कन्यादान जरूरी नहीं, केवल सात फेरे हैं जरूरी, जानिए हाईकोर्ट ने ऐसा क्यों कहा...

ताजा समाचार

Kanpur: शादी का दबाव बनाने पर सिपाही ने साथी के साथ मिलकर की थी नर्स की हत्या...पुलिस ने किया ऐसे खुलासा, दोनों आरोपी गिरफ्तार
Lok Sabha Elections 2024: 'कांग्रेस के अंदर औरंगजेब की आत्मा प्रवेश कर गई है', महाराष्ट्र में गरजे सीएम योगी
देश में 400 नहीं बल्कि 143 सीटें ही जीत रही भाजपा, बलरामपुर में अखिलेश यादव
श्रावस्ती: अवैध गेहूं लेकर नेपाल जा रहे तस्करों को सशस्त्र सीमा बल के जवानों ने पकड़ा
क्वीन के हटते ही फंस गया जौनपुर सीट का चुनावी समीकरण, भाजपा प्रत्याशी गोमती नदी किनारे बैठकर खोज रहे मोदी की समुद्री लहर
Jobs 2024: हाईकोर्ट में निकली बंपर वैकेंसी, जल्द करें आवेदन