Abu Dhabi T10 League : टीमें पहले ऑस्ट्रेलिया का अनुकरण करना चाहती थीं, पर अब यह जगह हमने ले ली: मोईन अली

एक ही चक्र में टी20-वनडे विश्व कप ट्रॉफी जीतने वाली पहली टीम बनी इंग्लैंड

Abu Dhabi T10 League : टीमें पहले ऑस्ट्रेलिया का अनुकरण करना चाहती थीं, पर अब यह जगह हमने ले ली: मोईन अली

मोईन अली

अबुधाबी। स्टार आल राउंडर मोईन अली को इस चलन में कुछ बुराई नहीं लगती कि प्रतिद्वंद्वी टीमें सफेद गेंद के क्रिकेट में उनके ‘तरीके’ को अपनाने की कोशिश कर रही हैं जो वैश्विक टूर्नामेंट में उनकी अपार सफलता हासिल करने के बाद हुआ है। ऑस्ट्रेलिया में हाल में टी20 विश्व कप जीतने के साथ ही इंग्लैंड की टीम एक ही चक्र में टी20 और वनडे विश्व कप ट्राफी जीतने वाली पहली टीम बन गई। 

इयोन मोर्गन ने इंग्लैंड के 2015 विश्व कप में निराशाजनक अभियान के बाद टीम के सोचने के तरीके और खेलने की शैली में आमूलचूल बदलाव किया और जोस बटलर इस विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं। इंग्लैंड की सफेद गेंद की टीम के अहम सदस्य मोईन को लगता है कि अन्य टीमों के लिये मैच में अपनाये जाने वाले उनके आक्रामक रवैये का अनुकरण करना स्वभाविक है। उन्होंने इसके लिये 1990 के दशक और 2000 के दशक के शुरू में दबदबा रखने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम का उदाहरण दिया।

मोईन ने अबू धाबी टी10 लीग के मौके पर कहा, इस ‘टेम्प्लेट’ (तरीके) के बारे में काफी समय बात की गई थी। मुझे लगता है कि अब हम बेहतर टीम बन चुके हैं। मोर्ग्स (मोर्गन) ने इस तरीके को लाकर मानसिकता में बदलने में शानदार काम किया है जो सबसे मुश्किल हिस्सा है।  उन्होंने कहा, अब हम विभिन्न परिस्थितियों, अलग टीमों के खिलाफ अनुकूलित हो सकते हैं, डेथ ओवर में अलग गेंदबाजों का इस्तेमाल कर सकते हैं और बल्लेबाजी क्रम में भी लचीलापन है। यह टीम आगे और बेहतर ही होगी। 

 इंग्लैंड का यह 'टेम्प्लेट' अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए मानदंड बन गया है। इस 35 साल के खिलाड़ी ने कहा,  उदाहरण के तौर पर जब ऑस्ट्रेलिया की टीम ट्रॉफियां जीतती थी तो हर कोई उनका अनुकरण करना चाहता था। अब इंग्लैंड ने 50 ओवर और टी20 विश्व खिताब जीता है और टीमें हमारा अनुकरण करना चाहती हैं। 

ये भी पढ़ें :  FIFA World Cup 2022 : ऑस्ट्रेलिया-ट्यूनीशिया की भिड़ंत कल, इस टीम को मिलेगा अरब देशों के प्रशंसकों का समर्थन 

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement