UPSC Exam 2024: रीजनिंग और गणित के सवालों ने उलझाया, जानें यूपीएससी परीक्षा में किस विषय के प्रश्न रहे आसान

UPSC Exam 2024: रीजनिंग और गणित के सवालों ने उलझाया, जानें यूपीएससी परीक्षा में किस विषय के प्रश्न रहे आसान

लखनऊ, अमृत विचार। संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की ओर से रविवार को सिविल सर्विस (Premilinary) परीक्षा का आयोजन किया गया। परीक्षा के लिए लखनऊ में कुल 86 केंद्र बनाए गए थे। इस सिविल सर्विस की प्रिलिमिनरी परीक्षा में 400 30 अभ्यर्थियों को शामिल होना था। 

दूसरी पाली की परीक्षा संपन्न होने के बाद अमृत विचार रिपोर्टर ने अभ्यर्थियों से बात की और उनसे परीक्षा में पूछे गये सवालों के बारे में जानकारी हासिल की। इस दौरान कई अभ्यर्थी ऐसे थे  जो  पहली बार पेपर दे रहे थे तो कई अभ्यर्थियों का दूसरा या तीसरा अटेम्प्ट था।

1

अभ्यर्थियों ने बताया कि जीएस के सवाल आसान लगे तो रीजनिंग और कॉम्प्रिहेंशन के सवालों ने लोगों को उलझा दिया। गणित के सवालों में भी अभ्यर्थी अंत तक उलझे रहे। 

परीक्षा खत्म होने पर केंद्र से बाहर आए अभ्यर्थियों ने बताया कि प्रश्न पत्र का लेवल माध्यमिक था, लेकिन कंप्रीहेंशन और गणित के सवालों ने काफी हद तक अटका दिया था। अभ्यर्थियों ने कहा कि पेपर-1 का लेवल काफी आसान था। पेपर-2 में काफी टाइम लग रहा था। पहले अटेम्प्ट वाली रितिका ने कहा कि पहले पेपर में आठ से 10 सवाल छूट गए थे। अभ्यर्थी विवेक, मनीष और रवि ने कहा कि करंट अफेयर के प्रश्न अधिक कठिन नहीं थे। लगातार हाल के घटनाक्रमों पर ध्यान रखा। ऐसे में उन सवालों में काफी अधिक समय नहीं लगा।

1

यूपीएससी एस्पिरेंट मानसी ने कहा कि यह उनका दूसरा अटेम्प्ट है, उन्होंने बताया कि “विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रश्न अधिकतर आसान से मध्यम के बीच थे। हाल के वर्षों के रूझानों के अनुरूप लगभग 11 प्रश्न पूछे गए। प्रमुख क्षेत्रों की बुनियादी समझ रखने वाले छात्रों को सटीक उत्तर देने में सक्षम होना चाहिए।

राहुल राय ने कहा कि इकोनॉमी के सैक्शन में अधिकांश प्रश्न स्थिर और मुख्य भाग से पूछे गए थे और केवल कुछ प्रश्न करंट अफेयर्स से पूछे गए थे। भूगोल के प्रश्न भी पिछले वर्ष की तुलना में आसान थे। “प्रश्न काफी हद तक अवधारणा-आधारित रहे हैं। अधिकांश प्रश्नों का उत्तर विषय की बुनियादी समझ के माध्यम से दिया जा सकता है। इतिहास के प्रश्न पिछले वर्ष की तुलना में मध्यम थे, विषयों की कुछ पुनरावृत्ति के साथ।

यह भी पढ़ें पढ़ें:-लखनऊ में पारा पहुंचा 46 डिग्री के पार, भीषण गर्मी से जनजीवन बेहाल, जानें कब मिलेगी राहत