लखनऊ: छावनी में तब्दील रहा अकबर नगर, 24 दुकानों पर चला बुलडोजर, दिन भर पुलिस के साथ होती रही नोकझोंक

ध्वस्तीकरण की कार्रवाई के लिए लगायी गयीं 10 जेसीबी, न्यायालय से अपील खारिज होने के बाद शाम 4:30 बजे शुरू हुई कार्रवाई

लखनऊ: छावनी में तब्दील रहा अकबर नगर, 24 दुकानों पर चला बुलडोजर, दिन भर पुलिस के साथ होती रही नोकझोंक

लखनऊ, अमृत विचार। अकबर नगर में कुकरैल नदी और बंधे पर अवैध रूप से बनीं 24 दुकानों पर मंगलवार को लखनऊ विकास प्राधिकरण का बुलडोजर चला। काफी इंतजार के बाद शाम 4:30 बजे अधिकारियों के पास उच्च न्यायालय के आदेश की प्रति आते ही ध्वस्तीकरण की कार्रवाई शुरू हो गयी।

एलडीए ने पहले की तैयारी पूरी कर ली थी। इंतजार था आदेश का। सबसे पहले अपीलकर्ता सुहैल हैदर अल्वी के ताजमहल फर्नीचर पर बुलडोजर चला। दुकानों को जमींदोज करने के लिए एलडीए ने 10 जेसीबी लगायीं। दुकानों पर ध्वस्तीकरण की कार्रवाई देर शाम तक चलती रही।

दुकानों पर बुलडोजर चलते ही पीछे गली में मौजूद लोग हंगामा करने लगे। उनकी पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के साथ कई बार नोक-झोंक हुई। भारी पुलिस बल की मौजूदगी के कारण उनकी एक न चली। मौके पर एलडीए उपाध्यक्ष डॉ. इन्द्रमणि त्रिपाठी, नगर आयुक्त इन्द्रजीत सिंह, अपर नगर आयुक्त, पुलिस एवं जिला प्रशासन के अधिकारी उपस्थित रहे।

झुग्गी हटाते समय हुई पत्थरबाजी, जेसीबी का शीशा टूटा

दोपहर में कुकरैल बंधे के पास नदी के किनारे बनीं झुग्गी झोपड़ियां जैसे ही जेसीबी से हटाने की कार्रवाई शुरू हुई लोग आक्रोशित हो गए और पत्थरबाजी शुरू कर दी, जिससे जेसीबी का शीशा टूट गया। लोग हमलावर हो गए, जिससे पुलिस और पीएसी की टीम को वापस लौटना पड़ा। इससे काफी देर कार्रवाई रुकी रही। प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के काफी समझाने के बाद कार्रवाई में झुग्गी-झोपड़ियां ध्वस्त कर दीं।

0

बिना मानक के कराए गए निर्माण ध्वस्त करने के लिए लगायी गयी थीं 6 टीमें

अकबर नगर प्रथम एवं द्वितीय में बिना मानक के कराए गए निर्माण ध्वस्त करने के लिए 6 टीमें लगायी गयी थीं। 6 अलग-अलग स्थानों पर टीमों ने एक साथ सुबह से ध्वस्तीकरण की कार्रवाई शुरू कर दी। फैजाबाद रोड पर बंधे के दोनों ओर बने कई मकान एलडीए ने ध्वस्त कर दिए। एक टीम ने अकबर नगर प्रथम की संकरी गली में मजदूरों की सहायता से दो मकान तोडे़। एक टीम अकबर नगर में कुकरैल नदी के किनारे झुग्गियां हटाती रही।

ध्वस्तीकरण शुरू होते ही दुकानदार हटाने लगे सामान

एलडीए, नगर निगम, जिला प्रशासन और पुलिस की टीमें मंगलवार सुबह जैसे ही अकबर नगर पहुंचीं दुकानदार भी दुकानें खोलकर डटे रहे। दुकानों के ध्वस्तीकरण के लिए प्रशासन ने तैयारी पूरी कर ली थीं। 8 से 10 की संख्या में जेसीबी सड़क के दोनों ओर दुकानों के बाहर लगा दी गयी थीं। इसके बावजूद कुछ लोग ही दुकानों से सामान निकालते दिखे। शाम को आदेश आते ही जैसे ही ध्वस्तीकरण की कार्रवाई शुरू हुई दुकानदार आनन-फानन अपना सामान निकालने लगे।

घरों की छतों से देखते रहे कार्रवाई

अकबर नगर में प्रशासन की ओर से लगातार अनाउंसमेंट कराया जा रहा था। लोगों से अपने घरों में रहने की अपील की जा रही थी। फैजाबाद रोड के दोनों ओर बैरिकेटिंग की गयी थी। इसके बावजूद लोग ध्वस्तीकरण की कार्रवाई देखने के लिए उमड़ पड़े। पुलिस ने उन्हें अंदर नहीं आने दिया। इसके बाद लोग घर की छतों से ध्वस्तीकरण की कार्रवाई देखते रहे।

ड्रोन से की गयी वीडियो रिकॉर्डिंग

माहौल खराब करने वालों पर निगरानी के लिए ड्रोन से पूरी कार्रवाई की वीडियो रिकार्डिंग की गयी। गलियों में हंगामा करने वालों को ड्रोन उड़ाकर चिन्हित किया गया। घरों की छतों से पत्थरबाजी की आशंका को देखते हुए ड्रोन उड़ाकर छतों पर मौजूद लोगों की भी रिकाॅर्डिंग की गयी।

52

छावनी में तब्दील रहा अकबर नगर

मंगलवार को कार्रवाई शुरू होने से पहले अकबर नगर छावनी में तब्दील हो गया। चप्पे-चप्पे पर पुलिस, पीएसी, आरएफ की टीम तैनात रही। मुख्य मार्ग से लेकर गलियों में भी पुलिस के जवान तैनात रहे। जिला प्रशासन, पुलिस, एलडीए और नगर निगम के अधिकारी भी पुलिस कर्मियों के साथ अकबर नगर प्रथम की गलियों में कानून व्यवस्था का जायजा लेने जाते रहे। जिससे कार्रवाई के दौरान कोई बड़ी घटना नहीं हुई।

विस्थापितों को भेजा गया बसंतकुंज योजना

अकबर नगर में मकान ध्वस्तीकरण की कार्रवाई चलती रही। वहीं दूसरी ओर विस्थापितों को उनके सामान के साथ नगर निगम के वाहनों से बसंतकुंज योजना भेजा गया। इसके अलावा कई स्थानीय लोग अपना सामान छोटा हाथी से दूसरी जगह ले गए। देर शाम तक यह सिलसिला चलता रहा। एलडीए ने विस्थापितों को बसंतकुंज योजना में प्रधानमंत्री आवास आवंटित किए हैं।

856

मकान टूटा तो सड़क पर आ गयी गृहस्थी

अकबर नगर में वर्षों से रह रहे लोगों का मकान टूटा तो गृहस्थी सड़क पर आ गयी। अकबर नगर द्वितीय में बंधे के किनारे बने पक्के मकान एलडीए की टीम ने ध्वस्त कर दिए। निवासियों ने घर का सामान किसी तरह बाहर निकाला। दोपहर के वक्त लोग सड़क पर ही खाना बनाते दिखे। उनके चेहरे पर मायूसी साफ झलक रही थी। एक ओर मकान ध्वस्त हो रहे थे। वहीं, अकबर नगर की छात्राएं परीक्षा देने निकल रही थीं।

बिना मानक के बने हैं 102 दुकानें और कॉम्प्लेक्स

अकबर नगर प्रथम और द्वितीय में लोगों ने कुकरैल बंधे और नदी पर लगभग 102 बिना मानक के दुकानें, कॉम्प्लेक्स खड़े कर लिए हैं। इन्हें ध्वस्त करने के लिए एलडीए ने नोटिस जारी की थी। एलडीए दिसम्बर 2023 में इन्हें गिराने पहुंचा था, लेकिन न्यायालय से स्टे मिल जाने से कार्रवाई रोकनी पड़ी थी। 27 नवम्बर को उच्च न्यायालय ने 24 दुकानदारों की अपील खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें:-बाराबंकी: कानून की परीक्षा में सामूहिक नकल का वीडियो वायरल, युवक ने परीक्षा कक्ष में घुसकर बनाया Video

ताजा समाचार