हरदोई: ठेकेदार ने साथियों के साथ मजदूर को पीट-पीटकर मार डाला, मजदूरी का पैसा मांगने पर की बेरहमी से पिटाई

हरदोई: ठेकेदार ने साथियों के साथ मजदूर को पीट-पीटकर मार डाला, मजदूरी का पैसा मांगने पर की बेरहमी से पिटाई

हरदोई। एक मजदूर के लिए ठेकेदार से अपनी मजदूरी का पैसा मांगना उसके लिए भारी पड़ गया। मजदूर के पैसा मांगने पर ठेकेदार ने अपने पुत्रों के साथ मिलकर उसकी इतनी बेरहमी से पिटाई कर दी कि उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई।  मामला कोतवाली शहर के कौथेलिया गांव का बताया जा रहा है।

एएसपी पूर्वी नृपेंद्र कुमार ने कहा है कि पुलिस पिटाई किए जाने का केस पहले ही दर्ज कर उसकी जांच कर रही थी। शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। बताया गया है कि कोतवाली शहर के कौथेलिया गांव निवासी वीरेन्द्र सिंह उर्फ नन्हे सिंह के चार बेटे और दो बेटियां हैं।

बड़ा बेटा 25 वर्षीय लल्लन सिंह टाइल्स लगाने का कारीगर था और ठेकेदारी करने वाले गांव के राजू श्रीवास्तव के साथ काम करता था। लल्लन के चचेरे भाई दीपू ने बताया कि राजू श्रीवास्तव ने दीपावली पर मज़दूरी का पैसा देने का वादा किया था। लल्लन ने दीपावली से एक दिन पहले जब अपनी मज़दूरी मांगी तो उसने दीपावली के बाद देने का कहा।

लल्लन ने किसी तरह उधार-कर्ज लेकर दीपावली मनाई और अगले ही दिन सोमवार को राजू श्रीवास्तव के घर पैसे मांगने पहुंचा। उसने ठेकेदार को अपनी समस्या बताते हुए कहा कि उसने त्यौहार पर जो कर्ज़ा लिया था, उसे चुकता करना है। इसी बात पर ठेकेदार राजू श्रीवास्तव इतना आग-बबूला हो गया कि उसने अपने पुत्रों सोनू मोनू के अलावा एक और साथी के साथ मिल कर उसे लाठी-डंडो से पीट दिया जिससे लल्लन बेहोश हो गया।

उसके बाद हमलावर उसे मरा हुआ समझकर भाग गए। लल्लन सिंह को बेहोशी की हालत में मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया। वहीं पुलिस ने उसके चचेरे भाई दीपू की तहरीर पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी। गुरुवार की भोर पहर तकरीबन पांच बजे लल्लन ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

इस बारे में एएसपी पूर्वी नृपेंद्र कुमार ने बताया है कि शव का पोस्टमार्टम कराया गया है, उसकी रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

हे भगवान... किस किए की दी सजा

लल्लन सिंह घर में सबसे बड़ा था। उसके काम करने से घर-गृहस्थी की गाड़ी बड़े सुकून से चल रही थी, लेकिन उसी बीच उसके परिवार पर ऐसी आफत टूटी कि उसकी मां नन्ही सिंह के सारे ख्वाब तिनके की तरह बिखर गए। सोते-जागते बेटे की सलामती की दुआएं मांग रही नन्ही सिंह को जैसे ही पता चला कि उसका लाल अब कभी भी लौट कर नहीं आएगा।

इतना सुनते ही उस मां ने ऊपर की तरफ देखा और रोते हुए बोली, हे भगवान... आखिर किस किए की ऐसी सज़ा दी। उसने तो कभी किसी के बुरा नहीं किया, फिर उसके साथ ऐसा क्यों किया गया। एक मां के इन अल्फाज़ो को सुन कर पत्थर दिल भी रो पड़े।

यह भी पढ़ें: प्रयागराज: 72 घंटे के अल्टीमेटम के बाद भी नहीं मिला वेतन, कर्मचारियों ने किया जमकर हंगामा

Online Jobs Apply