बरेली: तहसीलों में 153 नए लेखपालों की हुई तैनाती, सबसे ज्यादा बहेड़ी-फरीदपुर और सबसे कम सदर तहसील 

बरेली: तहसीलों में 153 नए लेखपालों की हुई तैनाती, सबसे ज्यादा बहेड़ी-फरीदपुर और सबसे कम सदर तहसील 

बरेली, अमृत विचार : लंबे समय से लेखपालों की कमी से राजस्व कार्याें को समय से निपटाने में आ रही समस्या जल्द दूर होने वाली है। शासन स्तर से भर्ती प्रक्रिया के बाद जिले को डेढ़ सौ से ज्यादा नए लेखपाल मिल गए हैं। सभी की तैनाती अलग-अलग तहसीलों में कर दी गई है। नए लेखपालों की तैनाती के बाद लंबित कार्यों में तेजी आएगी। पहले से तैनात लेखपालों पर काम का बोझ भी कम होगा।

दरअसल, जिले की सभी तहसीलों में लेखपालों की बड़ी कमी थी। एक लेखपाल के पास कई काम थे जिसकी वजह से तय समय पर कार्य नहीं हो पा रहे थे। जरूरतमंदों को तहसीलों और लेखपालों के चक्कर काटने पड़ते थे। इस समस्या काे देखते हुए पिछले दिनों लेखपालों की भर्ती कर सभी जिलों में तैनाती की गई है।

बरेली को 153 लेखपाल मिले। डीएम रविंद्र कुमार के आदेश पर एडीएम प्रशासन दिनेश की ओर से सभी लेखपालों की तैनाती कर दी गई है। बहेड़ी, फरीदपुर तहसील में 30-30 लेखपाल मिले हैं, जबकि नवाबगंज में 27, मीरगंज में 19, आंवला में 28, सदर में 19 लेखपालों की तैनाती की गई है। एसडीएम सदर रत्निका श्रीवास्तव ने बताया कि सभी को सर्किल वितरित करते हुए जिम्मेदारी दी जा रही है।

इन कार्याें में आएगी तेजी: लेखपाल का काम भूमि रिकॉर्ड बनाना, सर्वेक्षण, राजस्व रिपोर्ट तैयार करने के अलावा पैमाइश, तूदाबंदी, आय, जाति, निवास प्रमाण पत्र के आवेदनों की जांच कर रिपोर्ट लगाना है। वारिसान प्रमाण पत्र, आईजीआरएस के मामलों की जांच की जिम्मेदारी भी लेखपालों पर होती है।

ये भी पढ़ें - रोना भी जरूरी है... जज्बातों को बयां करना भी है जरूरी, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ

ताजा समाचार

गोंडा: सीएम योगी और अभिनेत्री कंगना रानौत पर अभद्र टिप्पणी करने वाला सपा समर्थक गिरफ्तार
बरेली पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद, भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र कश्यप को जिताने की अपील की
Auraiya: युवा, गरीब और किसान के हित में है भाजपा का संकल्प पत्र...बिजली बिल जीरो करने पर जोर- प्रकाश पाल
बरेली: पूजा कर मंदिर से लौट रही महिला को मीट भरे वाहन ने मारी टक्कर, हिंदूवादी संगठनों का हंगामा
सलमान रुश्दी ने 2022 में अपने ऊपर हुए हमले को याद करते हुए कहा- मुझे लगा था कि मैं मर रहा हूं 
छोटकौनू हत्याकांड: पत्नी ने प्रेमी के हाथों कराई थी पति की हत्या!