लखनऊ : नेशनल ज्वेलर्स मीट का आयोजन कल, राजधानी में जुटेंग ज्वेलरी एक्सपर्ट 

लखनऊ : नेशनल ज्वेलर्स मीट का आयोजन कल, राजधानी में जुटेंग ज्वेलरी एक्सपर्ट 

लखनऊ, अमृत विचार। राजधानी लखनऊ में कल यानी गुरुवार को नेशनल ज्वैलर्स मीट का आयोजन हो रहा है। ऑल इण्डिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन की तरफ से आयोजित इस नेशनल ज्वैलर्स मीट में देश के सभी प्रमुख ज्वैलरी संगठनों के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। बताया जा रहा है इसका सीधा फायदा ज्वैलर्स के साथ आम लोगों को मिलेगा। यह आयोजन आलमबाग स्थित एक निजी होटल में किया जा रहा है।

दरअसल, नेशनल ज्वैलर्स मीट के दौरान विभिन्न विषयों के विशेषज्ञ एमएसएमई, बीआईएस, ज्वैलरी बीमा, एमसीएक्स सहित तमाम महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा एचयूआईडी के फायदे भी बतायेंगे।

कार्यशाला के दौरान ऑल इण्डिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन (AIJGF) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज अरोरा (नई दिल्ली), राष्ट्रीय महामंत्री नितिन केडिया (मुंबई), प्रदेश संगठन मंत्री मणीन्द्र सोनी, उत्तर प्रदेश संयोजक विनोद महेश्वरी, प्रदेश अध्यक्ष मनीष वर्मा, प्रदेश महामंत्री राजेश सोनी, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी सागर केसरवानी शामिल होंगे।

AIJGF के प्रदेश महामंत्री राजेश सोनी ने बताया है कि नेशनल ज्वैलर्स मीट के जरिये ज्वैलरी पर एचयूआईडी की अनिवार्यता की जानकरी दी जायेगी। साथ ही यह भी बताया जायेगा कि इससे आम लोगों को इसका क्या लाभ मिलेगा। भारतीय मानक ब्यूरो की तरफ से एचयूआईडी नंबर अनिवार्य कर दिया गया है। जिससे सोने की शुद्धता की गांरटी का पता चलता है। 6 डिजिट का यह नंबर बिल्कुल आधार कार्ड की तरह काम करता है। यह अभूषण का आईडी नंबर होता है। इसे ज्वेलरी का आधार कार्ड कहा जाये तो गलत न होगा। अभूषण पर पड़े नंबर को  बीआईएस (BIS) ऐप पर डालने से उस ज्वैलरी की पूरी कुंडली सामने होगी। इससे विश्वसनियता बरकरार रखना आसान हो गया है। इससे मैन्यूफैक्चर यानी निर्माणकर्ता से लेकर ग्राहक तक को सहूलियत हो रही है। 

यह भी पढ़ें : CM योगी ने UP Police के सुधार को दी करोड़ों की सौगात, कहा-दंगाइयों के लिए काल है हमारी पुलिस

ताजा समाचार