जनता के बीच न्याय प्रणाली में रहे विश्वास इसके लिए दक्षता और इंसाफ का संतुलन बनाना आवश्यकता: हाईकोर्ट

जनता के बीच न्याय प्रणाली में रहे विश्वास इसके लिए दक्षता और इंसाफ का संतुलन बनाना आवश्यकता: हाईकोर्ट

प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लंबा आपराधिक इतिहास रखने वाले अपराधियों को जमानत देने से पहले उनकी आपराधिक पृष्ठभूमि पर विचार करने का निर्देश देते हुए कहा कि दक्षता और न्याय के बीच संतुलन बनाना कानूनी कार्यवाही का एक चुनौतीपूर्ण पहलू है। आपराधिक न्याय प्रणाली को इस प्रकार बनाया जाय, जिससे नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकने के साथ-साथ गलत काम करने वालों को उनके कार्यों का परिणाम भुगतना तय हो। 

कोर्ट ने आगे कहा कि यह एक दुखद सत्य है कि जघन्य अपराधी कानूनी कार्यवाही में खामियों का फायदा उठा कर बच जाते हैं। कानूनी खामियां आपराधिक न्याय प्रणाली में जनता के विश्वास को कमजोर करती हैं। पीड़ित ठगा हुआ सा महसूस करता है। 

उक्त टिप्पणी न्यायमूर्ति कृष्ण पहल की एकलपीठ ने भरत सिंह की दूसरी जमानत याचिका को खारिज करते हुए की। आरोपी के खिलाफ झांसी के नवाबाद पुलिस स्टेशन में आईपीसी की गंभीर धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। 

मालूम हो कि आरोपी का लंबा आपराधिक इतिहास होने के कारण उसे दो मामलों में दोषी ठहराया गया है और पहली जमानत याचिका खारिज होने का कारण उसका आपराधिक इतिहास ही है।

यह भी पढे़ं: Kanpur: रेप के आरोपी होटल मैनेजर को भेजा गया जेल; पीड़िता से करता था अश्लील चैट, मना करने पर देता था नौकरी से निकालने की धमकी...

ताजा समाचार

Kanpur: जाजमऊ टेनरी क्लस्टर के लिए बने सीईटीपी का नहीं शुरू हो सका संचालन; यह वजह बनी रूकावट का कारण
UP में नहीं थम रहीं dog attack की घटनाएं, देवरिया में स्ट्रीट डॉग ने मासूम बच्ची को नोचकर मार डाला
मुक्केबाजी में आखिरी ओलंपिक क्वालीफायर के लिए भारतीय टीम में अमित पंघाल ने की वापसी
IPL 2024 : चेन्नई और मुंबई के मुकाबले में महेंद्र सिंह धोनी पर रहेंगी नजरें 
Banda Crime: पुलिया के नीचे झाड़ियों में पड़ा मिला युवक का शव...आक्रोशित परिजनों ने हाईवे किया जाम
Kanpur: डंपर ने कार में मारी टक्कर...किन्नर समेत दो की मौत, एक अन्य घायल, हादसे के बाद चालक वाहन छोड़कर फरार