Kanpur: साथियों संग गंगा में नहाने गया था युवक; नदी में डूबता देख दोस्त छोड़कर भागे, मौत

Kanpur: साथियों संग गंगा में नहाने गया था युवक; नदी में डूबता देख दोस्त छोड़कर भागे, मौत

कानपुर, अमृत विचार। साथियों संग गंगा नहाने कोयला घाट गया युवक नदी में डूब गया। साथी को नदी में डूबता देख दोस्त हड़बड़ाहट में मौके से फरार हो गए। कुछ देर बाद दोस्तों ने घाट पर मौजूद गोताखोरों को घटना की जानकारी दी, जिसके बाद गोताखोरों ने शव को निकाल कर पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची कैंट पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम भिजवाया। 

कैंट थानाक्षेत्र के आनंद नगर निवासी जगदीश प्रसाद के तीन बेटे मनीष, शिवम व  सत्यम कुमार (21) था। पिता के मुताबिक सत्यम प्राइवेट कंपनी में शेयर मार्केट का कार्य करता था, लेकिन डेढ़ माह पहले उसने नौकरी छोड़ दी थी। शनिवार को गंगा मेला के मौके पर बेटे का दोस्त रोहित घर आया और होली खेलने की बात कह कर बिरहाना रोड ले गया। 

होली खेलने के बाद बेटा रोहित समेत अन्य दोस्तों के साथ गंगा नदी में नहाने के लिए कोयला घाट चला गया। नहाने के दौरान सत्यम नदी में आगे की ओर चला गया, जिस पर अचानक वह डूबने लगा। सत्यम को डूबते देख रोहित समेत अन्य साथी हड़बड़ाहट में मौके से भाग निकले। 

कुछ देर बाद लौट कर आए साथियों ने मामले की जानकारी घाट पर मौजूद गोताखोरों और परिजनों को दी। परिजनों ने तलाश शुरू की, जिसके बाद उसका शव मिला। बेटे का शव देखते ही मां शारदा बेसुध होकर गिर पड़ी। हादसे की सूचना पर कैंट पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम भिजवाया।

यह भी पढ़ें- Kanpur: गंगा बैराज के मुख्य मार्ग पर धंसी सड़क; कई बाइक सवार हुए जख्मी, कारें भी फंसीं, लोग बोले- नहीं हो रही सुनवाई

 

ताजा समाचार

ऑस्ट्रेलिया दबाव में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करता है, भारत के खिलाफ ऐसा करेंगे : मिशेल मार्श
नीट परीक्षा को रद्द करे सरकार: सपा युवजन सभा के लोगों ने किया प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन
मेरठ: वर्चस्व की जंग...फिर कार से बाइक टकराने पर विवाद, सरेआम शख्स की गोली मारकर हत्या
Kanpur News: चुन्नीगंज बस अड्डे पर सीवरभराव, यात्री पी रहे खौलता पानी...मच्छर बने मुसीबत, विश्रामालय का पंखा भी खराब
लखनऊः भातखंडे संस्कृति विश्वविद्यालय में कलाकारों ने अपने सुरों से बांधा समां
'किसी भी विदेशी ताकत के आगे नहीं झुकेंगे...', चीन के साथ झड़प के बाद बोले फिलीपींस के राष्ट्रपति Bongbong Marcos