बागेश्वर धाम का जयपुर में आगामी 30 मई से लगेगा तीन दिवसीय दरबार

बागेश्वर धाम का जयपुर में आगामी 30 मई से लगेगा तीन दिवसीय दरबार

जयपुर। बहुचर्चित बागेश्वर धाम का राजधानी जयपुर में आगामी तीस मई से तीन दिवसीय दरबार लगेगा जिसमें धाम के प्रमुख पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री हनुमंत कथा करेंगे और भक्तों की समस्या सुनेंगे। हनुमान ग्राम सेवा समिति के तत्वावधान में गुलाबी नगर में बागेश्वर धाम का यह तीन दिवसीय कार्यक्रम 30 मई से एक जून तक आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम आयोजक सीताराम यादव ने बताया कि रघुनाथ धाम जयपुर के पीठाधीश्वर स्वामी सौरभ राघवेन्द्राचार्य महाराज के सान्निध्य में आयोजित होने वाला यह कार्यक्रम लालचंदपुरा निवारू रोड पर आयोजित होगा। इसमें पंडित शास्त्री हनुमान भक्तों को तीन दिवसीय हनुमंत कथा सुनाएंगे।

सीताराम यादव ने बताया कि कार्यक्रम से पहले 29 मई को सुबह आठ बजे भव्य कलशयात्रा निकाली जाएगी। कलशयात्रा का मार्ग में अनेक स्थानों पर पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया जाएगा। कलशयात्रा पर हेलीकॉप्टर द्वारा पुष्प-वर्षा भी की जाएगी। कलश यात्रा में बड़ी संख्या में भाग लेने की संभावना है। कलशयात्रा में जहां महिलाएं अपने सिर पर कलश धारण कर मंगल गीत गाते हुए यज्ञ स्थल तक जायेगी वहीं पुरुषों के हाथों में लाल कपड़े में श्रीफल लपेटे हुए होंगे जिन्हें लेकर वे यज्ञ स्थल तक जाएंगे और अपनी मनोकामना पूर्ण होने की अर्जी लगाएंगे। 

पंडित धीरेंद्र शास्त्री को हवाई अड्डे से पुष्पवर्षा करते हुए आयोजन स्थल तक लाया जाएगा इसमें हजारों लोग अपनी गाड़ियों में भगवा ध्वज हाथों में लहराते हुए और बालाजी के जयकारे लगाते हुए चलेंगे। इस दौरान शहर में अनेक स्थानों पर 108 भव्य स्वागतदार बनेंगे। जगह-जगह महाराज का पुष्पों से और जयकारों से स्वागत-अभिनंदन किया जाएगा। सनातन हिन्दु सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कार्यक्रम संयोजक राजेन्द्र खंडेलवाल ने बताया कि इस विशाल आयोजन के दौरान 108 कुंडीय श्रीराम महायज्ञ भी होगा। यज्ञ का श्रीगणेश पं. शास्त्री करेंगे। इस महायज्ञ में एक कुंड पर तीन यजमान जोड़े बैठेंगे। 

राजेन्द्र खंडेलवाल ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान ही एक दिवसीय दिव्य दरबार भी लगेगा जिसमें श्रद्धालुओं की हर तरह की समस्याओं का निराकरण बागेश्वरधाम सरकार द्वारा पर्ची के माध्यम से किया जाएगा। दिव्य दरबार में आने वाले भक्तों के लिए वाहन पार्किंग की व्यवस्था दरबार स्थल से पांच किलोमीटर पहले की जाएगी। भक्तजनों को शीतल जल सहित अन्य सभी सुविधाएं समिति की तरफ से उपलब्ध करवाई जाएगी। कार्यक्रम को भव्यता प्रदान करने के लिए लगभग 10 हजार कार्यकर्ताओं की टीम का गठन किया जा रहा है। कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं की व्यवस्था सुचारू रहे जिसके लिए उनके रहने, खाने-पीने की व्यवस्था आयोजन स्थल पर ही होगी। 

ये भी पढ़ें- एल्गार परिषद मामले में दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हनी बाबू ने जमानत याचिका वापस ली

ताजा समाचार