'अगर मुझे हारना है, तो मुझे उनसे हारने में कोई दिक्कत नहीं...' Hardik Pandya ने की MS Dhoni की तारीफ

'अगर मुझे हारना है, तो मुझे उनसे हारने में कोई दिक्कत नहीं...' Hardik Pandya ने की MS Dhoni की तारीफ

अहमदाबाद। गुजरात टाइटंस के कप्तान हार्दिक पंड्या ने अपने मार्गदर्शक (मेंटर) और प्रतिद्वंद्वी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि ‘नियति ने उनके लिए यही लिखा था’ कि वह संभवत: अपने आखिरी इंडियन प्रीमियर लीग सत्र में चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) को रिकॉर्ड की बराबरी करने वाला पांचवां खिताब दिलाएं।

सीएसके ने सोमवार को यहां वर्षा से प्रभावित फाइनल में 15 ओवर में 171 रन के संशोधित लक्ष्य का पीछा करते हुए रविंद्र जडेजा के आखिरी दो गेंद पर छक्के और चौके की मदद से गुजरात टाइटंस को पांच विकेट से हरा दिया। पिछले साल पदार्पण सत्र में गुजरात टाइटंस को खिताब दिलाने वाले हार्दिक ने फाइनल में हार के बाद कहा, ‘‘मैं उनके (धोनी) लिए बहुत खुश हूं। किस्मत ने उसके लिए यही लिखा था।’’

 उन्होंने कहा, ‘‘अगर मुझे हारना है, तो मुझे उनसे हारने में कोई दिक्कत नहीं है। अच्छे लोगों के साथ अच्छी चीजें होती हैं और वह उन सबसे अच्छे लोगों में से एक हैं जिन्हें मैं जानता हूं। भगवान दयालु रहे हैं, भगवान मुझ पर भी दयालु रहे हैं लेकिन आज रात उनकी थी।’’ धोनी ने स्वयं अब तक अगले साल आईपीएल में खेलने से इनकार नहीं किया है लेकिन कहा कि ऐसा होने के लिए उनके शरीर का साथ देना जरूरी है। छह गेंद में 15 रन बनाकर नाबाद रहे जडेजा ने खिताबी जीत अपने कप्तान धोनी को समर्पित की। जडेजा ने कहा, ‘‘मैं इस जीत को सीएसके टीम के एक विशेष सदस्य महेंद्र सिंह धोनी को समर्पित करना चाहता हूं।’’

 उन्होंने कहा, ‘‘अद्भुत लग रहा है, अपने घरेलू दर्शकों के सामने पांचवां खिताब जीतना। मैं गुजरात से हूं और यह एक विशेष भावना है। मैदान में मौजूद दर्शक शानदार रहे हैं। वे देर रात तक बारिश रुकने का इंतजार कर रहे थे, मैं सीएसके के प्रशंसकों को बहुत-बहुत बधाई देना चाहूंगा जो हमारा समर्थन करने यहां आए।’’ आखिरी दो गेंदों पर छक्का और चौका जड़ने पर जडेजा ने कहा, ‘‘मैं बस सोच रहा था कि मुझे जितना हो सके उतना कड़ा प्रहार करने की जरूरत है। गेंद कहां जाएगी मैं इस बारे में नहीं सोच रहा था, बस कड़ा प्रहार करने की कोशिश कर रहा था।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं अपने ऊपर भरोसा कर रहा था और सीधा हिट करना चाह रहा था क्योंकि मुझे पता है कि मोहित धीमी गेंद फेंक सकता है।’’ टाइटंस अपने खिताब का बचाव करने में नाकाम रहे लेकिन पंड्या ने कहा कि वह अपने खिलाड़ियों से इससे अधिक कुछ नहीं मांग सकते। उन्होंने कहा, ‘‘हमने बहुत सारी योजनाओं को लागू किया और पूरी जान लगाकर खेले। हम हमेशा एक ऐसी टीम रहे हैं जो एकजुट रहती है और किसी ने हार नहीं मानी है। हम एक साथ जीतते हैं और हम एक साथ हारते हैं। शायद आज उन मुकाबलों में से एक है। मैं उन लोगों में से नहीं हूं जो बहाने बनाते हैं। सुपरकिंग्स ने बेहतर क्रिकेट खेली।’’

 हार्दिक ने कहा, ‘‘साई का भी विशेष उल्लेख। वह अपने जीवन में शानदार काम करने जा रहा है। मैं उन लोगों के लिए बेहद खुश हूं। मोहित, शमी, राशिद हर कोई, सभी ने जिम्मेदारी ली। कोचिंग स्टाफ का भी विशेष उल्लेख। मैं उनसे और अधिक कुछ नहीं मांग सकता।’’

 सीएसके के मध्य क्रम के बल्लेबाज अंबाती रायुडू ने फाइनल से ठीक पहले आईपीएल से संन्यास के फैसले की घोषणा की थी। उन्होंने कहा कि वह अपने क्रिकेट करियर के ‘परीकथा जैसे अंत’ के बाद अपने जीवन के बाकी हिस्से में मुस्कुरा सकते हैं। रायुडू ने कहा, ‘‘यह एक परीकथा जैसा अंत है। मैं इससे अधिक कुछ और नहीं मांग सकता। मैं भाग्यशाली हूं कि शानदार टीमों का हिस्सा रहा। मैं अपने बाकी बचे जीवन में मुस्कुरा सकता हूं। मैंने पिछले 30 वर्षों में जितनी मेहनत की है, मुझे खुशी है कि मैंने इस तरह अंत किया।’’

ये भी पढ़ें:- IPL से संन्यास की अटकलों को खारिज करते हुए धोनी ने कहा- प्रशंसकों के प्यार की वजह से अगले साल फिर खेलूंगा