नैनीताल: जब जाम में फंसे धोनी तो फैंस के आए मजे...धोनी को कहना पड़ा जाने दो...

नैनीताल: जब जाम में फंसे धोनी तो फैंस के आए मजे...धोनी को कहना पड़ा जाने दो...

नैनीताल, अमृत विचार। बीते मंगलवार को पूर्व भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान एमएस धोनी व उनकी पत्नी साक्षी धोनी निजी दौरे पर नैनीताल पहुंचे और बुधवार सुबह वे अपने पैतृक गांव जैंती ल्वाली अल्मोड़ा पहुंचे थे जहां पर उन्होंने भूमिया मंदिर सहित गांव के सभी मंदिरों में पूजा अर्चना की थी। जिसके बाद वे नैनीताल वापस लौट आए, हालांकि उनके दौरे को गुप्त रखा गया है। लेकिन फिर भी उनके प्रसंशक उनको ढूंढ ही ले रहे हैं।

शुक्रवार को उन्होंने राजभवन की सैर की जिसके बाद दोपहर को सफेद रंग की ओडी कार में सवार महेंद्र सिंह धोनी पर जैसे ही तल्लीताल में लोगो की नजर पड़ी तो उनके प्रशंसको का हुजूम उनकी गाड़ी के आगे पीछे चलने लगा। तल्लीताल से मल्लीताल तक लगे लंबे जाम के चलते उनकी गाड़ी भी काफी देर तक जाम में फंसी रही, जिसके चलते लोगो ने गाड़ी के बाहर से ही धोनी की फ़ोटो खींचनी शुरू कर दी।
 
पुलिस ने भारी मशक्कत के बाद उनकी गाड़ी को जाम से बाहर निकाला। इस दौरान धोनी ने मास्क भी लगाया था फिर भी लोगों ने उनको पहचान लिया।गाड़ियों के जाम से जहां धोनी परेशान दिखे तो वहीं लोगों ने आराम से गाड़ी के बाहर से ही उनके साथ जमकर सैल्फी भी ली। जिसके बाद उन्होंने सुखाताल कफीचिनो में कॉफी पी और फिर पंगोट की ओर रवाना हो गए। जानकारी के अनुसार अगले कुछ दिनों  तक अभी वे नैनीताल में ही रहने वाले हैं तथा कैंची धाम में भी दर्शन करेंगे। वहीं रविवार को उनकी पत्नी साक्षी का जन्म दिन भी वे इस बार नैनीताल में ही मनाएंगे। साथ ही विश्वकप के फाइनल आनंद भी वे इस बार फील्ड से नही बल्कि नैनीताल की वादियो में टीवी के जरिये उठाएंगे।
 
बता दें कि बुधवार को धोनी ने अपने पैतृक घर की देहली पर बैठकर फ़ोटो खिंचवाई तथा ग्रामीणों के सात मुलाकात कर उनके साथ काफी देर तक बातचीत की थी। ग्रामीणों ने बताया था कि धोनी व साक्षी ने काफी देर तक गांव में समय बिताया,और अपने क्रिकेट के अनुभव भी शेयर किए और भट्ट की दाल के डूबके चावल व मूली की टपकी का आनंद लिया और जल्द ही दोबारा आने का वादा भी किया।
अभी नौकरी पाओ