पीलीभीत: सोना बताकर पीतल के सिक्के थमाए और धरे गए चार जालसाज..जानिए मामला

पीलीभीत: सोना बताकर पीतल के सिक्के थमाए और धरे गए चार जालसाज..जानिए मामला

पीलीभीत/पूरनपुर, अमृत विचार। सोने के सिक्कों की आड़ में पीतल बेचने वाले शातिर जालसाज एसओजी टीम के हत्थे चढ़ गए। चार आरोपियों की धरपकड़ कर मंगलवार को खुलासा किया गया।

आरोपियों से सोना बता कर बेचे जा रहे दो किलो पीतल के सिक्के भी बरामद किए गए। पकड़े गए आरोपी मुझा गांव निवासी अरशद खां, माधोटांडा क्षेत्र के ग्राम रुद्रपुर निवासी विकास यादव, मोनू और चकरपुर गांव के कुलवंत सिंह को चालान कर कोर्ट में पेश करके जेल भेज दिया है।

जनपद शाहजहांपुर के  निगोही के निवासी बब्बू अली के अनुसार वह एक शादी समारोह में बब्बू और अरशद से मिले थे। अरशद ने उन्हें सोने के सिक्कों के बारे में बताया। यकीन दिलाने के लिए एक सिक्का दे दिया। बब्बू ने वो सिक्का सर्राफ से चेक कराया तो वह सोने का निकला।

इसके बाद 30 लाख रुपये में दो किलो सोने के सिक्के खरीदने का सौदा तय कर दिया। 19 नवंबर को जब वह सोने के सिक्के लेने पूरनपुर पहुंचे। तब उन्हें जो सिक्के दिखाए गए, उसे देख शक हुआ। एक सिक्का लेकर वह स्थानीय सर्राफ के पास गए। जांच कराई तो पीतल का सिक्का निकला। ठगी का आभास होते ही शिकायत पुलिस से कर दी गई थी।  

मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी ने एसओजी टीम को लगाया और सौदेबाजी जारी रखने की बात कही। ठग कुछ समय नहीं पाए और सौदा करने में लगे रहे। फिर एसओजी टीम ने पूरनपुर पहुंचकर कोतवाली रोड स्थित एक पंप के पास दुकान के  बाहर चली गई। कुलवंत सिंह पहले से ही दुकान पर था। जैसे ही विकास और मोनू सिक्कों से भरा थैला लेकर पहुंचे।

फिर एसओजी ने दबिश देकर सिक्कों के साथ कुलवंत सिंह को हिरासत में ले लिया। मोनू और विकास यादव भी धर लिए गए। आरोपी अरशद खां भी पुलिस ने कुछ देर में पकड़ लिया। इसके बाद से उनसे पूछताछ की जाती रही। मंगलवार को बब्बू अली की ओर से रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों को जेल भेज दिया।

ये भी पढे़ं- पीलीभीत: जुलूस निकालकर पहुंचे ग्रामीणों ने विधायक आवास के पास शुरू कर दिया धरना..जानिए मामला