संभल: वैश्य महासम्मेलन ने अधिकारी पर लगाए गंभीर आरोप

समाज के लोगों पर दर्ज कराई जा रही है फर्जी रिपोर्ट 

संभल: वैश्य महासम्मेलन ने अधिकारी पर लगाए गंभीर आरोप

संभल/चन्दौसी, अमृत विचार। अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के राष्ट्रीय संरक्षक पवन कुमार गुप्ता ने यहां तैनात एक प्रशासनिक अधिकारी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। कहा कि उस अधिकारी से वैश्य समाज पीड़ित है। समाज के लोगों पर फर्जी रिपोर्ट दर्ज कराई जा रही है। 
 

बुधवार को यहां एक रेस्टोरेंट में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि प्रदेश का वैश्य व व्यापारी समाज मानता है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ईमानदार मुख्यमंत्री हैं। लेकिन यहां के प्रशासनिक अधिकारी ने अपनी तैनाती के दौरान 10 करोड़ से भी अधिक धनराशि अवैध तरीके से कमाई है। हाल ही में यहां एक वैश्य व्यापारी से धारा 80 और विनिमय के नाम पर छह करोड़ की घूस की मांग की गई। व्यापारी ने रुपये देने से मना किया तो उसके विरुद्ध झूठी एफआईआर दर्ज करा दी। जबकि धारा 80 की फाइल रद कर दी। व्यापारी परेशान और हताश होकर आत्महत्या की सोच रहा था। जानकारी होने पर अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के पदाधिकारियों ने जाकर उस परिवार का ढांढस बंधाया और परिवार के साथ कानूनी लड़ाई लड़ने का भरोसा भी दिलाया। 

 उन्होंने कहा, पुलिस अधीक्षक ने दर्ज रिपोर्ट क्राइम ब्रांच के लिए स्थानांतरण कर दी। क्राइम ब्रांच ने एफआईआर में फाइनल रिपोर्ट लगा दी। इसके बाद अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन का एक प्रतिनिधिमंडल उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक से मिला और आरोपी अधिकारी के विरुद्ध जांच करा कर दंडात्मक कार्रवाई की मांग की है। उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक के निर्देश के तहत जिलाधिकारी ने उक्त अधिकारी द्वारा पिछले एक वर्ष में किए गए धारा 80 के 116 आदेश, भूमि विनिमय के दो आदेश कुल 118 फाइलों की जांच अपर जिलाधिकारी व डिप्टी कलेक्टर संभल को सौंपी है।

ये भी पढ़ें:- मुरादाबाद : उर्वरक की कालाबाजारी के आरोप में दुकानदार पर मुकदमा दर्ज

Post Comment

Comment List